भाई बहन का प्यार – IV

By   December 12, 2016
loading...

मेरी बहन मेरे बिस्तर पर पूरी तरह नंगी बिछी हुई थी और वो भी मेरे लिए। उसकी मासूम कुंवारी चूत जैसे अपने भाई के लंड को पुकार रही थी। इन सबमे हमारा प्रेम बहुत गहरा था. इस bahan ki chudai ki kahani का आखिरी भाग-

Indian Sex Stories के अन्य भाग-

पार्ट 1

पार्ट 2

loading...

पार्ट 3

पार्ट 4


उसको पूरी तरह से नंगा देख कर एक बार फिर से मै अपने होश-ओ-हवास खो बैठा। बीती रात की तरह एक बार फिर से मै इस सोच में पड़ गया कि बिस्तर पर पूरी तरह से नंगी पड़ी हुई अपनी बहन के बूब्स देखूं या बालों में छिपी हुई उसकी चूत| मै स्तब्ध सा अपनी नंगी बहन को निहारने लगा। इस समय मुझे वो इस दुनिया तो क्या सारी कायनात कि सबसे सुंदर लड़की लग रही थी। उसका गोरा-गोरा बदन किसी को भी मदहोश कर देने के लिए काफी था। लगभग ३२ साइज के उसके बूब्स थे उस समय, कमर लगभग २८ और नीचे का साईज लगभग ३४ रहा होगा। ऐसा लग रहा था मनो कोई तराशा हुआ हीरा मेरे बिस्तर पर चमक रहा हो। उस समय मुझे अदिति इतनी सुंदर लग रही थी कि अगर स्वर्ग से कोई अप्सरा भी उतर कर आ जाती और अदिति के बराबर में नंगी हो कर लेट जाती तो भी मै अदिति को ही निहारता, उस अप्सरा को नहीं। बात सिर्फ ये नहीं होती है कि एक नंगी लड़की आपके बिस्तर पर नंगी पड़ी है, बात तो ये होती है कि आपकी अपनी बहन आपके बिस्तर पर खुद आपके लिए बिछी हुई है और आपका इन्तजार कर रही है। अगर किसी भाई कि काली-कलूटी बहन भी उसके बिस्तर पर इस तरह बिछी हुई होगी तो भी वो उसे किसी अप्सरा से बेहतर ही लगेगी , फिर अदिति तो रूप का खजाना थी।

मै एक तक उसे निहार रहा था-कभी मै उसके बूब्स को देखता और कभी उसकी चूत को मगर अभी तक मैंने उसे छुआ नहीं था , बस स्तब्ध सा खड़ा हुआ निहारे जा रहा था। लेकिन आज अदिति में पूरी तरह से बदलाव आ चूका था। वो कल कि तरह शर्मा नहीं रही थी- उसने ना तो अपने बूब्स को अपनी बाजुओं से छिपाना चाह और ना ही अपनी टांगो से अपनी चूत को छिपाया।आज वो सब कुछ खोल कर लेती हुई थी और आराम से मुझे सब कुछ दिखा रही थी। उसकी आँखों में आज एक अलग सी चमक थी। आज वो खुद भी मेरे लिए उतनी ही बेकरार थी जितना मै हमेशा उसके लिए रहता था।
आखिर कार अदिति ने चुप्पी तोड़ते हुए अब्दे प्यार से पूछा-
क्या देख रहे हो भईया?
मैंने कहा -जानती है अदिति, तेरे साथ रिलेशन में आने से पहले मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मै तुझे इस तरह का प्यार करूँगा। फिर एक दिन तेरे बूब्स देखे और तेरे बारे में सपने देखने लगा। उसके बाद तू खुद मेरी जिंदगी में आ गयी, मुझे प्यार देने लगी और मै तेरे प्यार में खो गया। लेकिन फिर भी मैंने कभी ये नहीं सोचा था कि एक दिन मै तुझे इस रूप में देख सकूँगा। बस इस लिए जी भर कर देख रहा हूँ।
अदिति ने ठंडी सांस भरते हुए कहा- भईया सोचा तो मैंने भी कभी नहीं था कि एक दिन मै इस तरह से आपके सामने होउंगी , मगर अब आपके बिना रहा नहीं जाता। और जब मै आपके बिना रह ही नहीं सकती तो क्यों ना आपको पूरी तरह से ही पा लूँ। और ये कहते हुए अदिति ने अपनी टाँगे फैला दीं।
उसके टाँगे फ़ैलाने के अंदाज से साफ़ था कि वो अब और इन्तजार नहीं करना चाहती है और मुझे अपनी चूत का निमंतरण दे रही है।
लेकिन मैने उसके माथे को किस्स किया और उसे सिर से लेकर पाँव तक चूमना शुरू कर दिया। मैंने उसके बदन के हर इंच पर अपने किस्स कि मोहर लगा दी।इस बीच वो मौका देख कर स्थिति के अनुसार मेरा लंड अपने हाथ में ले कर सहला देती थी।उसे किस्स करते करते मै उसके पैर तक पहुँच गया। मैंने उसके पैरों कि उंगलियों को चूस कर उनपर भी अपने नाम कि मोहर लगा दी। अब अदिति के पूरे बदन पर मेरी ही मोहर थी और आज से अदिति मेरी निजी संपत्ति थी ,उसके बदन के एक-एक इंच पर अब मेरा ही अधिकार हो गया था।
अदिति के पैरों को चूम कर मै फिर से ऊपर कि तरफ बड़ा और उसकी चूत को चाटने लगा। अदिति बार बार सिर उठा कर मुझे चूत चाटते हुए देखती और फिर बेसुध हो कर वापिस लेट जाती।
मै ठीक कल जैसा ही उसे सुख देना चाहता था क्योकि मै जनता था कि आज जो कुछ भी हुआ वो कल कि घटना का ही फल था।इस लिए मै पूरी शिददत से उसकी चूत चाट रहा था और वो भी कल ही कि तरह उछल उछल कर मदहोश हुए जा रही थी।

bhai bahan ka pyar bahan ki chudai

आख़िरकार मैं अपनी बहन में समां गया

मैंने सोचा था कि मै आज भी अपनी बहन को चूत चूस चूस कर झाड दूंगा , मगर अदिति ने ऐसा होने नहीं दिया। सिर्फ थोड़ी से चूत चुसवा का अदिति ने मेरे बालों को पकड़ कर मुझे बलपूर्वक खीचते हुए ऊपर कि तरफ खींच लिया। अब अदिति मेरे नीचे अपनी टंगे फैला कर लेती हुई थी और मै उसके ऊपर लेता हुआ था। मेरा चेहरा अदिति के चेहरे के सामने था, होंठ होंठो के पास थे, साँसों से साँसे टकरा रही थी और मेरा लंड उसकी चूत के पास टक्कर दे रहा था।
मै अदिति कि आँखों में आँखे डालकर देंखे लगा और ये जानने कि कोशिश करने लगा कि आखिर अदिति क्या चाहती है ? अदिति कि आँखों में बहुत चमक थी चेहरे पर अजीब सी संतुष्टि एवं ख़ुशी के मिले जुले भाव थे। उसकी आँखों कि चमक बता रही थी कि उसे अपने ऊपर गर्व हो रहा है -मनो उसने वो पा लिया हो जो वो पाना चाहती थी।मेरे होंठों पर अपने होंठ रखते हुए (किस्स किये बिना ) और मेरे बालों में अपनी उंगलियाँ फैहराते हुए वो बोली भईया आज मुझे “ये” चाहिए (और ये कहते हुए अदिति ने मेरा लंड अपने हाथ में ले कर अपनी चूत के ठीक ऊपर लगा दिया)।

उस पल के लिए किन शब्दों का प्रयोग करूँ मुझे समझ में नहीं आ रहा है। मेरी बहन मुझे पहली बार अपनी चूत दे रही थी और वो भी अपने ही हाथ से मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत पर लगा भी रही थी। मै तो अपनी सुध-बुध खोता जा रहा था।मेरी साँसे बहुत तेज हो गयी थी , दिल कि धड़कन बाद चुकी थी, ऑंखें आनंद से बंद हुए जा रही थी, होठों को अदिति के होंठ चूस रहे थे और मेरा लंड खुद मेरी बहन के हाथ में हो कर उसकी ही चूत के ऊपर था। उस समय मै ऐसा बेसुध हो रहा था, जैसे किसी ने मुझे ड्रग्स का नशा करवा दिया हो। लेकिन सच तो ये है कि वो नशा तो ड्रग्स के नशे से भी बाद कर होता है।

उधर अदिति का भी कुछ कुछ ऐसा ही हाल था।वो भी मेरे लंड को अपनी चूत पर रखते ही मदहोश हो रही थी।उसकी भी ऑंखें नशे से बंद हो रही थी।वो धीरे धीरे मेरे होंठ पी रही थी और मुझे लंड अंदर डालने के लिए प्रोत्साहित कर रही थी।
मैंने जोश में आकर एक जोर का झटका मारा और अपने लंड को सीधा अपनी बहन कि चूत में ठोंक देना चाहा|लेकिन ऐसा हुआ नहीं। मेरे झटका मारते ही अदिति के मुहं से चीख निकलने लगी जिसे हम दोनों भाई-बहन ने दबा दिया (कुछ तो अदिति ने अपनी छेख रोकने कि कोशिश की और कुछ मैंने उसके होंठो पे अपने होंठ लगा दिए )| अदिति के चेहरे पे दर्द साफ़ उभर रहा था उसने झटके के साथ मेरा लंड अपनी चूत पे से हटा दिया था।
अदिति की आँखों में दर्द के कारन पानी आ गया था| मुझे लगा कि अब अदितिको गुस्सा आ जायेगा और मुझे आगे कुछ करने कि इजाजत नहीं देगी। मुझे लगने लगा कि अब तो मै उसकी चूत मानने का मौका खो बैठा हूँ। मगर हुआ इसका उल्टा, दर्द कम होते ही अपने आप को सँभालते हुए और अपने चेहरे पर मुस्कराहट लाते हुए अदिति ने बहुत प्यार से कहा- भईया आराम से करो आपकी सगी बहन कि चूत है किसी दुश्मन कि बेटी की नहीं।
अदिति के मुहं से ऐसी बाते सुनकर मुझे बहुत तसल्ली हुई कि कम से कम अदिति छूट देने से तो इनकार नहीं कर रही है।मैंने अदिति से अपनी गलती के लिए माफ़ी मांगी और दुबारा से अपना लंड उसकी छूट पर रखने लगा। एक बार फिर से अदिति ने खुद मेरा लंड अपने हाथ में लिया और हलके हलके सहलाते हुए बहुत मस्ती में बोली- बहन के लंड ये है तेरी बहन कि चूत।मुझे अदिति के साथ दो साल हो चुके थे प्यार करते हुए मगर इन दो सालों में मैंने कभी उसको इतनी मस्ती में नहीं देखा था जितना मै आज देख रहा था। मै बहुत बहुत खुश था उसका ये रूप देख कर। एक अलग ही मानसिक सुख मिल रहा था मुझे।
उसके बाद मैंने अदिति के निर्देशानुसार धीरे धीरे अपना लंड उसकी चूत के अंदर डाला। अदिति बार बार मेरा लंड पकड़ कर सेट करती थी। कभी वो मुझे जोर लगाने जो कहती और कभी वापिस बहार निकलने को कहती। जब भी मै थोडा ज्यादा जोर लगा देता वो गुस्सा होते हुए कहती बिलकुल भी तरस नहीं आ रहा अपनी सगी बहन पे ? आराम से करो न प्लीज।
थोड़ी सी तकलीफ के बाद आखिरकार मेरा लंड अदिति कि चूत के अंदर था। हम दोनों कि सांसे बहुत तेज तेज चल रही थी , आनंद का तो शब्दों में बयान करना मुमकिन ही नही है। अदिति ने अपना हाथ मेरे लंड से हटा कर मेरी कमर पर रख लिया था और आंखे बंद करके मेरे नीचे लेती हुई थी। मै अपना लंड पूरी तरह से अपनी बहन कि चूत में डालकर उसके ऊपर ही लेता हुआ था और उसके मदमस्त हो चुके चेहरे को निहार रहा था।
अदिति ने धीरे से आंखे खोली और हलके से पूछने लगी- भईया कैसा लग रहा है ?
मैंने उसे बताया- अदिति मुझे तो ऐसा लग रहा है जैसे मेरा लंड गरम गरम रूई में डाल दिया गया हो। ये तो बहुत सोफ्ट है। अदिति के चेहरे के भाव बता रहे थे कि उसे मेरे जवाब बहुत अच्छा लगा और मेरा जवाब सुनकर उसे मजा आया।
मैंने भी अदिति से पूछा तुझे कैसा लग रहा है?
वो बोली भईया ऐसा लग रहा है जैसे कोई गरम गरम लोहे कि रोड मेरे अंदर डाल दी गयी हो।
मैंने कहा लेकिन मुझे तो तेरी चूत गरम गरम लग रही है मगर वो बोली कि उसे मेरा लंड गरम गरम लग रहा था।जो भी हो हम दोनों के लिए ये एक नया अनुभव था और हम दोनों ही इस अनुभव में खो जाना चाहते थे।