भाई बहन का प्यार

By   December 8, 2016
loading...

मेरा नाम अंकुर है और मै दिल्ली का रहने वाला हूँ। आज मै आपको वह बात बताने जा रहा हूँ जिसे सुनकर शायद आप यही सोचेंगे की ये सिर्फ एक कहानी है। मगर सच मानिये ये कोई मनगढ़ंत sexy story नहीं है बल्कि मेरे साथ घटी एक सच्ची hindi sex story है।

Hindi Sex Story के अन्य भाग-

पार्ट 1

पार्ट 2

loading...

पार्ट 3

पार्ट 4


ये बात तब की है जब मै लगभग १९ वर्ष का था और मेरी बहन अदिति लगभग १७ वर्ष की थी। जो भी कुछ हमारे बीच हुआ- वह हुआ तो गलती से था मगर बाद में हम दोनों को ये एहसास हुआ की जो हुआ वह अच्छा हुआ और हम दोनों धीरे धीरे उससके आदि हो गए थे।

मै शुरू से ही बहुत सेक्सी विचारो वाला लड़का रहा हूँ और अपने से बड़ी उम्र के लडको के साथ रहता था इसलिए लगभग १४-१५ वर्ष की आयु से ही मै सेक्सी फिल्मे देखने लगा था और तभी से मुठ भी मरने लगा था। लेकिन अभी तक मेरी ये आदत किसी एक साधारण जवान लड़के के जैसे सिर्फ मुठ मरने तक ही सीमित थी। इसका मेरी बहिन के साथ कोई सम्बन्ध नहीं था। मै भी एक साधारण भाई की तरह ही अपनी बहिन को साधारण वाला प्यार करता था।
लेकिन एक दिन (ये बात उस समय कि है जब मै लगभग १७ वर्ष का था और अदिति लगभग १५ वर्ष कि थी।)मै अपने दोस्तों के साथ वी सी आर पर एक बहुत ही सेक्सी फिल्म देख कर आया था और मौका न मिल पाने के कारन उस दिन मुठ नहीं मार सका था। इसलिए पूरा दिन परेशान रहा।मगर पूरा दिन मुझे मुठ मारने का मौका मिला ही नहीं और मुझे रात को बिना मुठ मरे ही सोना पड़ा।
उसी रात मेरे साथ वह हुआ जो शायद इस समाज की नजरो में गलत होगा मगर अब मेरी नजरो में गलत नहीं है। मुझे कामुकता के कारण नींद नहीं आ रही थी और मै करवटे बदल रहा था कि अचानक मेरी नजर मेरे बराबर में सोती हुई मेरी छोटी बहिन पर पड़ी। (यहाँ मै आपको बता दूँ की शुरू से ही हम दोनों भाई बहिन एक कमरे में सोते थे और हमारे मम्मी-पापा दुसरे कमरे में सोते थे।)नींद में बेफिक्र हो कर सो रही मेरी बहन बहुत-बहुत सुंदर लग रही थी। और सबसे बड़ी बात तो ये थी कि नींद में सोती हुई मेरी बहिन के बूब्स बाहर आ रहे थे।पहले तो उसके बूब्स देखते ही मेरे अंदर हवस जाग उठी मगर दुसरे ही पल मेरे अंदर का भाई भी जाग गया और मैंने खुद पर कण्ट्रोल करते हुए अपनी करवट बदल ली।
मगर बहुत जयादा देर तक मेरे अंदर का भाई जागा न रह सका और मेरे अंदर का मर्द जाग गया। मै दिन भर से तो परेशां था ही, अब जयादा देर खुद पर कण्ट्रोल न कर सका और वापिस करवट बदल कर अपनी ही छोटी बहन के बूब्स देखने लगा। सच कहता हूँ उस समय मेरे अंदर मिले जुले विचार आ रहे थे। कभी तो मै अपनी ही बहन के बूब्स देख कर उत्तेजित हो रहा था और कभी खुद पर ग्लानी महसूस करता था।
मगर फिर भी उसके बूब्स देखने का मौका मै खोना नहीं चाहता था इसलिए उस रात मै जी भरकर अपनी बहिन के बूब्स देखता रहा मगर उसे छूने कि हिम्मत नहीं कर सका। लेकिन उसके गोरे-चिट्टे छोटे-छोटे बूब्स ने मेरे लैंड का हाल बुरा कर दिया था इसलिए मै लेटे-लेटे ही बिना पजामा खोले ही मुठ मारने लगा और अपनी बहन के बूब्स को निहारने लगा। इस तरह मैंने उस दिन पहली बार अपनी बहिन के नाम से मुठ मरी थी और वह भी उसके नंगे बूब्स को देखते हुए- उसी के सामने। सच कहता हूँ मुठ तो मै कई सालो से मार रहा था मगर उस दिन मुठ मारने से जो संतुष्टि मुझे मिली थी वो उस दिन से पहले कभी नहीं मिली थी।
बस उस दिन के बाद से ही मै अपनी बहन को ही उस नजर से देखने लगा था जिसे ये समाज तो सेक्स कहता है लेकिंन मै उससे प्यार कहूँगा। उस रात के बाद से मै जाग-जाग कर अपनी बहन के सो जाने का इन्तजार करने लगा। और साथ ही इन्तजार करता उसके सोते समय बूब्स के बहार निकल जाने का। कभी कभी तो मै पूरी पूरी रात जगता रह जाता मगर अदिति के बूब्स बहार ना निकलते और मै डर के कारण उसे छू नहीं सकता था। अब तो दिन रात मेरे ऊपर मेरी ही सगी बहन के प्यार का भूत स्वर हो चूका था। मै सेक्सी फिल्म देखता तो मुझे अदिति नजर आती और अदिति को देखता तो सेक्सी फिल्म कि हिरोइन नजर आती। ये सिलसिला लगभग एक साल तक चलता रहा और मै ऐसे ही अदिति के नाम कि मुठ मारने लगा मगर कुछ करने कि हिम्मत नहीं कर सका।बस रात रात भर जाग कर अपनी बहन के बूब्स बाहर आने का इन्तजार करता।

bhai bahan ka pyar hindi sex story

मेरी छोटी बहन के बूब्स

लेकिन दिन-ब-दिन मेरे अंदर अदिति को पाने कि चाहत बढती जा रही थी। अब मेरी नजर सिर्फ और सिर्फ अदिति के बूब्स पर ही रूकने लगी थी। मै जाने अनजाने में सबके सामने भी अदिति के बूब्स ही निहारता रहता था और इस बात के लिए एक-दो बार मेरे दोस्तों ने मजाक मजाक में टोक भी दिया था, मगर मैंने उन्हें नाराजगी जताते हुए इस बात के लिए डांट दिया था। लेकिन सच तो यही था कि अब मै अदिति के प्यार मे पागल हो चूका था और उसको पाने कि चाहत में अपनी सभी हदे पार करने लगा था।
इसलिए अब रात को जब अदिति के बूब्स बहार नहीं निकलते थे तो मे खुद अपने हाथ से उन्हें बहार निकालने लगा था। लेकिन बूब्स को बहार निकालते समय मै इस बात का विशेष ध्यान रखता था कि कही अदिति कि नींद न टूट जाये।
धीरे धीरे मेरी हिम्मत भी बढती जा रही थी और मै रोज ही अदिति के बूब्स निकल कर धीरे धीरे उन्हें सहलाने लगा , कभी कभी हलके से किस्स कर देता तो कभी कभी अपना लैंड ही उसके हाथ में दे देता।

ये सब सिलसिला भी लगभग एक-डेड़ साल तक चलता रहा और मेरी उम्र लगभग १९ वर्ष कि हो गयी थी और अदिति भी लगभग १७ वर्ष कि हो गयी थी। उम्र के साथ साथ अदिति के बूब्स भी भारी होते जा रहे थे और मुझे पहले से भी ज्यादा पागल करने लगे थे।मै अपनी ही सगी बहन के बूब्स के लिए पागल हुए जा रहा था और रोज रात को उसके बूब्स बहार निकालकर चूसता, सहलाता और उसके हाथ में अपना लंड रख कर अपनी सोती हुई बहन से मुठ मरवाता।

एक रात (जब मै १९ वर्ष का हो चूका था ) मेरा पागलपन कुछ ज्यादा ही बढ गया और मै रोज कि तरह अदिति के बूब्स से खेलने लगा| साथ ही साथ अपना लंड अदिति के हाथ में दे कर मुठ मरवा रहा था कि अचानक मै अपना कण्ट्रोल खो बैठा और उत्तेजना में बहुत जोर जोर से अदिति के बूब्स चूसने लगा। अपनी उत्तेजना में मै ये भूल गया कि मै अपनी ही छोटी बहन को सोते समय प्यार कर रहा हूँ और अपना लैंड उसके हाथ में दे कर जोर जोर से मुठ मरवाते हुए, बहुत जोर जोर से उसके बूब्स अपने हाथ से दबाते हुए मै उससे लिप्स टू लिप्स किस्स करने लगा (और ये सब बहुत जोर जोर से करने लगा था ) कि अचानक अदिति कि नींद खुल गयी। लेकिन जिस टाइम अदिति कि नींद खुली उस टाइम मेरे होठ उसके होठो को चूस रहे थे इसलिए वो चिल्ला तो न सकी मगर डर बहुत गयी। मेरे ऊपर उस समय जैसे शैतान सावार था। मै उस समाया अपनी चरम सीमा के समीप था। मैंने अदिति के जग जाने कि परवाह नहीं कि और पागलो कि तरह उससे किस्स करता रहा , जोर जोर से उसके बूब्स दबाता रहा और उसके हाथ में अपना लंड दे कर जोर जोर से मुठ मरवाता रहा।अदिति इतनी डर चुकी थी कि वो निष्क्रिय सी मेरे नीचे चुपचाप पड़ी रही। कभी कभी उसके चेहरे पर दर्द के भाव जरुर आ रहे थे मगर होठों पर मेरे होंठ होने के कारण वो कुछ बोल नहीं सकती थी। थोड़ी ही देर में (सिर्फ चंद ही मिनटों में )मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया और मेरा सारा वीर्य अदिति के हाथ में था। मगर जैसे ही मेरे लंड ने पानी छोड़ा और मेरा पागलपन खत्म हुआ – मेरे हाल ख़राब हो गया। मुझे होश आया तो विचार आया कि अब अदिति मम्मी-पापा को सब बता देगी और अब मेरी खैर नहीं। बस यही सोच कर मेरी हालत ख़राब हुए जा रही थी। लेकिन अदिति चुपचाप गुमसुम और सहमी से अपने बिस्तर पर पड़ी हुई थी।
यहाँ तक कि न तो अदिति ने अपना हाथ ही साफ किया था और न ही उसने अपने बूब्स अंदर करे थे , वो तो जैसे गुमसुम सी हो गयी थी और मै उससे कही जयादा डर रहा था कि अभी अदिति चीखेगी और मम्मी-पापा को सब बता देगी। मै एक दम से अदिति के हाथ-पैर जोड़ने लगा और उससे मानाने लगा कि वो मम्मी-पापा से कुछ न कहे। मै बार बार उससे माफ़ी मांग रहा था कि जो हुआ वो गलती से हो गया मगर अदिति कि कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल रही थी। वो बस चुप चाप सी उसी हालत में पड़ी हुई थी। अंत में मैंने ही उसके बूब्स को ढँक दिया और उसे सुलाने लगा। जब बहुत देर तक अदिति ने कोई शोर नहीं मचाया तो मेरे दिल को थोडा सा चैन मिला कि कम से कम आज रात तो वो मम्मी-पापा को कुछ कहने वाली नहीं है लेकिन सुबह कि सोच का मुझे चिंता हुए जा रही थी। थोड़ी देर के बाद अदिति के रोने कि आवाज आने लगी। तब मैंने बार बार उससे माफ़ी मांगी और उससे वादा लिया कि वो मम्मी को कुछ नहीं कहेगी।जब अदिति ने मुझे वादा किया कि वो किसी को कुछ नहीं कहेगी तब कही जा कर मेरी जान में जान आई।
यूं तो अदिति ने मुझे वादा किया था कि वो किसी से कुछ नहीं कहेगी मगर सच तो ये है कि फिर भी मेरी गांड फट रही थी। मगर अगला पूरा दिन शांति से गुजर गया ,हाँ इतना जरुर था कि पूरे दिन मैं अदिति का विशेष ख्याल रख रहा था।अगली रात मैंने पूरी शांति के साथ गुजारी और बिना मुठ मरे या बिना अदिति के बूब्स देखे ही मै सो गया। ये पिछले दो सालो में पहली ऐसी रात थी की मै बिना अदिति के बूब्स चूसे या बिना उसके हाथ में अपना लंड रखे सो रहा था।

loading...