बीवियों की अदला बदली – III

By   January 13, 2017
loading...

sex party का माहौल बनता जा रहा था, मेरे हाथों में मेरे पति के अलावा किसी और मर्दों के लंड थे और बहुत मज़ा आ रहा था। चारो तरफ मुठ की खुशबू थी। इस orgy sex story का अगला धांसू पार्ट..

Hindi Sex Story के अन्य भाग-

पार्ट 1

पार्ट 2

पार्ट 3

पार्ट 4


तान्या लन्ड को पकड़ कर उसका लाल टमाटर जैसा सुपाडा चाटने लगी । उसे बड़ी मस्ती आ रही थी । फिर उसने एकदम से पूरा मुह खोला और लौडा अन्दर डाल कर चूसने लगी । उसे इस समय लन्ड बड़ा मज़ा दे रहा था । अपने हसबैंड के सामने अपनी सहेली के हसबैंड का लन्ड चूसना उसे मस्ती दे रहा था । उसकी चूत एक दम गरम हो गयी थी और वह खुद बुरी तरह चुदासी हो गयी । अब तक वह बिलकुल बेशरम हो गयी थी । उसके मुह से निकला अबे भोसड़ी के स्टीफेन मेरी चूत जली जा रही है देख तू मेरी चूत चाटना शुरू कर रे मादर चोद मैं तेरा लौडा चाटती हूँ । उसने अपनी चूत स्टीफेन के सामने फैला दी । स्टीफेन ने अपनी जबान निकाली और बुर चाटने लगा । तान्या पहली बार किसी पराये पुरुष से अपनी बुर चटवा रही थी । उसने लन्ड चाटने की स्पीड तेज कर दी । लौडा फूलता जा रहा था ।

बट्टू :- हां यार मेरी बीवी तो लंड की शौक़ीन है ही पर तेरी बीवी तो लौडा पकड़ने में माहिर है । यार मेरा लौडा इतना कभी नही टन तनाय जितना आज टन टना रहा है । इसके हाथ में जादू है । हाय रे जरा जल्दी जल्दी हिला बुर चोदी और मज़ा आएगा ।

शिवा :- हाय रे क्या मस्त है रे प्रीतम तेरी बीवी , इसकी चूंची तो देख । मैं तो आज पंजाबी चूंचियां देख रहा हूँ । जितनी बड़ी बड़ी है उतनी ही सख्त है । मुझे चूंचियां मसलने में मज़ा आ रहा है और इसको मेरा लौडा सहलाने में । बड़ी खाई पी लगती है रे तेरी बीवी ।

loading...

 

प्रीतम :- खूब पहचाना यार मेरी बीवी को । उसे तो लंड ही लंड चाहिए । दर्ज़नों लंड पकड़ चुकी है मेरी बीवी अब तक । दर्ज़नों इसकी चूत की सैर कर चुके है । पर तेरी बीवी तो दो कदम आगे है । लंड मुठियाने में इसका कोई जबाब नही है । देखो मेरे सुपाडे को कैसे चमका दिया है इसने । मेरा लंड एक इंच बढ़ गया है । मोटा भी पहले से ज्यादा हो गया है । तेरी बीवी लौडा जब अपनी चूंचियों पर फिराती है तो लंड काबू के बाहर हो जाता है । अब इसकी चूत चोदानेवाला है मेरा लौडा ।

 

अब तक सारे लंड फूल चुके थे । सभी बीवियों ने लंड चूसना शुरू किया । चारों तरफ़ फचर फचर , खभर खभर , सपड सपड , चपड चपड आवाजें आने लगी । सभी के लंड मुह की लार से सराबोर थे । लंड की अपनी लार सबको मज़ा दे रही थी । बीवियाँ इतनी लंड चूसने में मस्त थी की वे सारी दुनिया भूल गयी थी । बस लंड और लंड बाकि कुछ भी नही । चारों लंड साले और फनफना उठे । सभी अपनी अपनी बीवियों को गैर मर्द का लंड चूसते हुए देख रहे थे । उसी तरह बीवियाँ भी अपने अपने मियां को परायी बीवियों को लंड चुसवाते हुए देख रही थीं । यह एक दूसरे को देखना ही ग्रुप चुदाई का मज़ा है । आपको ऐसा लगता है की आप जैसे लाइव ब्लू फ़िल्म भी देख रहे है और उस फ़िल्म में हीरो / हिरोइन का रोल भी कर रहे है । इतने में एक एक करके लंड झड़ने लगे । बीवियों ने लंड मुह में झड्वाया या फ़िर अपनी अपनी चूंचियों पर ।

 

एक घंटे के बाद फ़िर दूसरा दौर चला । इस बार बन्नो ने प्रीतम का लौडा पकड़ लिया और प्रति ने बट्टू का लंड । उधर मेघना और शिवानी ने एक दूसरे के मियां का लौडा पकड़ा । लौड़े बदल गए । सबके पास नया लंड । वाह यह है अदल बदली का मज़ा । मियों को नयी चूंचियां दबाने को मिल गयी थी । नयी चूत सहलाने को मिल गयी । चारों ओर नया पन आ गया । इसलिए लंड में ज्यादा तनाव आने लगा । चूंचियां ज्यादा उछलने लगी । चूत और गरमाने लगी । फ़िर हुआ लंड चूसने का खेल । इस बार सबको नए लंड का स्वाद मिला । मियों ने लंड चुसवाने का नया स्टाइल का मज़ा लिया । थोड़ी देर में चारों बीवियाँ अपने अपने हाथ के लंड का मुठ्ठ मारने लगी । और लंड मजे से झडवा लिया । इस बार खाना खा कर सब सो गए वह भी नंगे नंगे ।

सवेरे सबसे पहले मेघना की आख खुली । उसने देखा की प्रीतम का लौडा अध् टन्ना लेटा है बुल्कुल नंगा । इस समय लंड बड़ा प्यारा लग रहा था । मेघना से न रहा गया उसने हाथ बढाया और लंड को पकड़ लिया । फ़िर शिवानी जगी । उसने मेघना को लंड लेते हुए देखा तो उसने बट्टू का लंड थामा । प्रति उठी तो उसकी भी चूत चुलबुला गयी उसने हाथ बढाकर मेघना के पति मट्टू का लंड पकड़ लिया । अंत में बन्नो उठी तो उसने झट से शिवा का लौडा पकड़ा । अब फ़िर लंड नए नए सबके हाथ में । सवेरे तो लंड ऐसे ही खड़ा हो जाता है उसपर परायी बीवी का हाथ लग जाए तो लौडा आसमान से बातें करने लगता है । सच बताऊँ इस समय सबके लंड सबसे ज्यादा टन्ना उठे थे । बीवियों को भी बड़ा मज़ा आने लगा । अब तो चारों बुर चोदी बीवियाँ मुठ्ठ मारने में बड़ी तेज हो गयीं थीं ।

biwiyon ki adla badli orgy sex story

मस्ती अपने चरम पे थी

आपको एक राज की बात बता दूँ की जितना मज़ा मर्दों को परायी बीवियों से मुठ्ठ मरवाने में आता है उतना ही मज़ा बीवियों को पराये मर्द के लंड का मुठ्ठ मारने में आता है ।

 

“जैकी अपने मोबाइल पर बोला :- यार सराफ जल्दी आ न देख मेरी बीवी कबसे नंगी नंगी बैठी तेरी राह देख रही है । जब से तेरे लंड के बारे में सुना है उसको चैन नही आ रहा है । इसका मन तो बस तेरे लंड में रखा है । कहती है की जब तक सराफ का लौडा पकड़ नही लेती तब तक मुझे कुछ भी अच्छा नही लगता है । यार जल्दी से पकड़ा दो न अपना लौडा इसे ।

 

सराफ ने जबाब दिया :- यार ठीक यही बात तो मेरी बीवी के साथ भी है । जब से मैंने इसे बताया की कल मैं और जैकी अपनी अपनी बीवियाँ अदल बदल कर चोदेंगें तब से यह तुमसे चुदवाने के लिए बेक़रार है । तुम्हारा लौडा देखने के लिए लालायित है । तुमको तो बताया था की मेरी बीवी को तरह तरह के लंड देखने और पकड़ने का जबरदस्त शौक है । लेकिन यार तुम हो कहाँ ?

 

जैकी :- होटल हनीमून का कमरा नंबर २२ में

 

सराफ :- अच्छा हम दोनों वहीँ आते है। थोड़ी देर में सराफ अपनी बीवी सैफाली के साथ जैकी के पास पहुँच गया । जैकी व उसकी बीवी ने उन दोनों का स्वागत किया और सीधे ड्रिंक्स पर बैठा दिया ।

loading...