दो ठरकी बुड्ढ़े और मैं बेचारी

By   November 18, 2017
loading...

कुछ घटनाएँ ऐसी होती हैं जिसमें आदमी खूद-ब-खुद खिंचता चला जाता है। चाहे वो चाहे या न चाहे। आदमी कितना भी समझदार हो लेकिन कभी-कभी उसकी समझदारी उसे ले डूबती है। ऐसी ही एक घटना मेरे साथ हुई थी। जिसे आज तक मेरे अलावा कोई नही जानता है। आज मैं यही sex hindi story आपसे शेयर करती हूँ-

Hindi Sex Story के अन्य भाग-

पार्ट 1

loading...

पार्ट 2


मैं कोमल, मेरे पति का नाम है राहुल, उम्र 32 साल, मुम्बई के विले पारले में रहती हूँ। मेरे पति एक इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी में काम करते हैं। मैं भी एक छोटी सी सॉफ्टवेर कंपनी में काम करती हूँ। ये बात काफ़ी साल पहले की है तब हम शहर से दूर मलाड के पास एक फ्लैट में रहते थे। हमारी शादी उसी फ्लैट में हुई थी। मीया बीवी अकेले ही उस फ्लैट में रहते थे। उस फ्लैट में हमसे ऊपर एक परिवार रहता था। उस परिवार में एक जवान कपल थे नाम था अंजलि और नवीन। उनके कोई बच्चा नही था। साथ में उनके ससुर जी भी रहते थे। उनकी उम्र कोई 60 साल के आस पास थी उनका नाम महेश सोनी था मैं अंजलि से बहुत जल्दी काफ़ी घुल मिल गयी। अक्सर वो हमारे घर आती या मैं उसके घर चली जाती थी। मैं अक्सर घर में स्कर्ट और टी शर्ट में रहती थी। मैं स्कर्ट के नीच छोटी सी एक कक्षी पहनती थी। मगर टी शर्ट के नीचे कुछ नही पहनती थी। इससे मेरे बड़े बड़े बूब्स हल्की हरकत से भी उछल उछल जाते थे। मेरे निपल्स टी शर्ट के बाहर से ही सॉफ सॉफ नज़र आते थे।

अंजलि के ससुर का नाम मैं जानती थी। उन्हे बस सोनी अंकल कहती थी। मैने महसूस किया सोनी अंकल मुझ में कुछ ज़्यादा ही इंटेरेस्ट लेते थे। जब भी मैं उनके सामने होती उनकी नज़रें मेरे बदन पर फिरती रहती थी। मुझे उन पर बहुत गुस्सा आता था। मैं उनकी बहू की उम्र की थी मगर फिर भी वो मुझ पर गंदी नियत रखते थे। लेकिन उनका हँसमुख और लापरवाह स्वाभाव धीरे धीरे मुझ पर असर करने लगा। धीरे धीरे मैं उनकी नज़रों से वाकिफ़ होती गयी। अब उनका मेरे बदन को घूरना अच्छा लगने लगा। मैं उनकी नज़रों को अपनी चूचियो पर या अपने स्कर्ट के नीचे से झाँकती नग्न टाँगों पर पाकर मुस्कुरा देती थीअंजलि थोड़ी आलसी किस्म की थी इसलिए कहीं से कुछ भी मंगवाना हो तो अक्सर अपने ससुर जी को ही भेजती थी। मेरे घर भी अक्सर उसके ससुर जी ही आते थे। वो हमेशा मेरे संग ज़्यादा से ज़्यादा वक़्त गुजारने की कोशिश में रहते थे। उनकी नज़रे हमेशा मेरी टी शर्ट के गले से झाँकते बूब्स पर रहती थी। मैं पहनावे के मामले में थोड़ा बेफ़िक्र ही रहती थी। अब जब भगवान ने इतना सेक्सी शरीर दिया है तो थोड़ा बहुत एक्सपोज़ करने में क्या हर्ज़ है। वो मुझे अक्सर छुने की भी कोशिश करते थे लेकिन मैं उन्हे ज़्यादा लिफ्ट नही देती थी।

अब असल घटना पर आया जाय। अचानक खबर आई कि मम्मी की तबीयत खराब है। मैं अपने मायके इन्दौर चली आई। उन दिनो मोबाइल नही था और टेलिफोन भी बहुत कम लोगों के पास होते थे। कुछ दिन रह कर मैं वापस मुंबई आ गयी। मैने राहुल को पहले से कोई सूचना नही दी थी क्योंकि हमारे घर में टेलिफोन नही था। मैं शाम को अपने फ्लैट में पहुँची तो पाया की दरवाजे पर ताला लगा हुआ है। वहीं दरवाजे के बाहर समान रख कर राहुल का इंतजार करने लगी। राहुल शाम 8 बजे तक घर आ जाता था। लेकिन जब 9 हो गये तो मुझे चिंता सताने लगी। फ्लैट में ज़्यादा किसी से जान पहचान नही थी। मैने अंजलि से पूछने का विचार किया। मैने ऊपर जा कर अंजलि के घर की कालबेल बजाई। अंदर से टी.वी. चलने की आवाज़ आ रही थी। कुछ देर बाद दरवाजा खुला। मैने देखा सामने सोनी जी खड़े हैं।” नमस्ते…वो अंजलि है क्या?” मैने पूछा।” अंजलि तो नवीन के साथ हफ्ते भर के लिए गोवा गयी है घूमने। वैसे तुम कब आई?”” जी अभी कुछ देर पहले। घर पर ताला लगा है राहुल…?”” राहुल तो गुजरात गया है अफीशियल काम से कल तक आएगा।” उन्होंने मुझे मुस्कुरा कर देखा- “तुम्हे बताया नही”” नही अंकल उनसे मेरी कोई बात ही नही हुई। वैसे मेरी प्लानिंग कुछ दिनो बाद आने की थी।””तुम अंदर तो आओ” उन्होंने कहा मैं असमंजस सी अपनी जगह पर खड़ी रही।

“अंजलि नही है तो क्या हुआ मैं तो हूँ। तुम अंदर तो आओ।” कहकर उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर अंदर खींचा। मैं कमरे में आ गयी। उन्होंने आगे बढ़ कर दरवाजे को बंद करके कुण्डी लगा दी। मैने झिझकते हुए ड्रॉयिंग रूम में कदम रखा। जैसे ही सेंटर टेबल पर नज़र पड़ी मैं थम गयी। सेंटर टेबल पर बियर की बॉटल्स रखी हुई थी। आस पास स्नॅक्स बिखरे पड़े थे। एक सिंगल सोफे पर गुप्ता अंकल बैठे हुए थे। उनके एक हाथ में बियर का गिलास था। जिसमें से वो हल्की हल्की चुस्कियाँ ले रहे थे। मैं उस महौल को देख कर चौंक गयी। सोनी अंकल ने मेरी झिझक को समझा और मेरे कंधे पर हाथ रखते हुए कहा-” अरे घबराने की क्या बात है। आज भारत-पाकिस्तान मैच चल रहा है ना। सो हम दोनो दोस्त मैच को एंजाय कर रहे थे।” मैने सामने देखा टीवी पर भारत-पाकिस्तान का मैच चल रहा था। मेरी समझ में नही आ रहा था कि मेरा क्या करना उचित होगा। यहाँ इनके बीच बैठना या किसी होटेल में जाकर ठहरना। घर के दरवाजे पर इंटरलॉक था इसलिए तोडा भी नही जा सकता था। मैं वहीं सोफे पर बैठ गयी। मैने सोचा मेरे अलावा दोनो आदमी बुजुर्ग हैं इनसे डरने की क्या ज़रूरत है। लेकिन रात भर रुकने की बात जहाँ आती है तो एक बार सोचना ही पड़ता है। मैं इन्ही विचारों में गुमसुम बैठी थी लेकिन उन्होंने मानो मेरे मन में चल रहे उथल पुथल को भाँप लिया था।

“क्या सोच रही हो? कहीं और रुकने से अच्छा है रात को तुम यहीं रुक जाओ। तुम अंजलि और नवीन के बेड रूम में रुक जाना मैं अपने कमरे में सो जाउन्गा। भाई मैं तुम्हे काट नही लूँगा। अब तो बूढ़ा हो गया हूँ। हा..हा..हा..”उनके इस तरह बोलने से महौल थोड़ा हल्का हुआ। मैने भी सोचा कि मैं बेवजह एक बुजुर्ग आदमी पर शक कर रही हूँ। मैं उनके साथ बैठ कर मैच देखने लगी। भारत बैटिंग कर रही थी। खेल काफ़ी काँटे का था इसलिए रोमांच पूरा था। मैने देखा दोनो बीच बीच में कनखियों से स्कर्ट से बाहर झाँकती मेरी गोरी टाँगों को और टी शर्ट से उभरे हुए मेरे बूब्स पर नज़र डाल रहे थे। पहले पहले मुझे कुछ शर्म आई लेकिन फिर मैने इस ओर गौर करना छोड़ दिया। मैं सामने टीवी पर चल रहे खेल का मज़ा ले रही थी। जैसे ही कोई आउट होता हम सब खुशी से उछल पड़ते और हर शॉट पर गलियाँ देने लगते। ये सब भारत-पाकिस्तान मैच का एक कामन सीन रहता है। हर बॉल के साथ लगता है सारे हिन्दुस्तानी खेल रहे हों।कुछ देर बाद सोनी अंकल ने पूछा, “कोमल तुम कुछ लोगी? बियर या जिन…?”मैने ना में सिर हिलाया लेकिन बार बार रिक्वेस्ट करने पर मैने कहा, “बियर चल जाएगी….”उन्होंने एक बॉटल ओपन कर के मेरे लिए भी एक गिलास भरा फिर हम “चियर्स” बोल कर अपने अपने गिलास से सीप करने लगे।सोनी अंकल ने दीवार पर लगी घड़ी पर निगाह डालते हुए कहा” अब कुछ खाने पीने का इंतेज़ाम किया जाय”-उन्होने मेरे चेहरे पर निगाह गढ़ाते हुए कहा-” तुमने शाम को कुछ खाया या नही?”मैं उनके इस प्रश्न पर हड़बड़ा गयी- ” हां मैने खा लिया था।””तुम जब झूठ बोलती हो तो बहुत अच्छी लगती हो। पास के होटेल से तीन खाने का ऑर्डर दे दे और बोल कि जल्दी भेज देगा” गुप्ता अंकल ने फोन करके खाना मंगवा लिया। एक गिलास के बाद दूसरा गिलास भरते गये और मैं उन्हे सीप कर कर के ख़तम करती गयी। धीरे धीरे बियर का नशा नज़र आने लगा। मैं भी उन लोगों के साथ ही चीख चिल्ला रही थी, तालियाँ बजा रही थी।

loading...