गर्लफ्रेंड को दोस्त से चुदवाया

By   January 8, 2017

हेलो दोंस्तों, मैं समीर आपका स्वागत करता हूँ। आप मैं आपको अपनी प्यार मुहब्बत की कहानी सुना रहा हूँ। रवि मेरा बहुत अच्छा दोस्त है। कई दिनों से जी कर रहा था कि उसकी माल मोना को मैं भी पेलू, चाहे बदले में मुझे भी वही करना पड़े। पढ़िए मेरी girlfriend sexy story..


एक दिन मैंने बातों बातों में कह दिया।

यार रवि!! कितने दिनों से चूत के दर्शन नहीं हुए है! अपनी माल मोना की चूत दिलादे यार! मैंने रवि से कहा।
शूरु में तो वो बड़ा नाराज हो गया।
मोना मेरी गर्लफ्रेंड है!! कोई रंडी तो है नहीं जो मैं तुझको चोदने खाने पेलने बजाने को दे दूँ! जो तुझे चाहिए वो मैं नहीं कर सकता! रवि बोला।

पर दोंस्तों, कुछ दिनों बाद उसका फ़ोन आया। मोना मुझसे चूदने को तैयार हो गयी थी। मैं रवि के हॉस्टल गया और रात में हम दोनों से मोना को नन्गा करके खूब चोदा खाया। उसे हमदोनो से कोई 12 15 बार तो लिया ही होगा। अब रवि मेरा खास दोस्त बन गया। मैं मन ही मन सोचने लगा की उसे भी अपनी माल की चूत एक दिन जरूर दिलाऊंगा। दोंस्तों, मैं अपनी माल जोया को बार बार पटाने लगा। जब जब मैं उससे कहता की मेरे जिगरी दोस्त को  चूत दे दो, वो मना कर देती। पर दोंस्तों 2 महीने तक उसे बार बार पटाने के बाद वो रवि से चूदने को तैयार हो गयी। अभी मोना बस 18 साल की थी। पर दोंस्तों इतनी गजब की माल थी की मैं क्या बताऊँ। मैंने उसे आज रात अपने कमरे पर बुला लिया।

जोया गुलाबी कलर का सलवार सूट पहन के आयी थी। उफ्फ्फ्फ़!! उसे देखते ही मेरा लण्ड खड़ा हो जाता था। मेरे मोहल्ले के सारे लड़के उसको गहरी और चुदासी नजरों से देखते थे। मेरी गली का हर लड़के का लण्ड उसे देख के खड़ा हो जाता था। सब जोया को चोदना चाहते थे। उसके चक्कर में मेरी कितने लड़कों से लड़ाई हो चुकी थी। जोया रात 9 बजे मेरे अपार्टमेंट में आ गयी थी। वो दिल्ली के एक इंस्टीट्यूट से फैशन डिजॉइनिंग का कोर्स कर रही थी। खूबसूरत होने के साथ ही वो बहुत टैलेंटेड लड़की भी थी। जोया अब मेरे अपार्टमेंट में आ गयी थी।
हाय बेबी!! यू आर लुकिंग ग्रेट!! मैंने उससे कहा। मैंने उसे बाहों में भर लिया। मैंने उसके होंठों पर किस किया।

अभी रवि नहीं आया था। मैंने उसे व्हाट्स अप कर दिया की आते समय बिअर और व्हिस्की भी लेता आये। रवि आ गया।
ही इस माय फ्रेंड रवि!! मैंने जोया का रवि से परिचय करवाया।
हाय!! नाईस टू मीट यू!! रवि बोला। उसने जोया से हाथ मिलाया।
जोया जी!! जितना सुना था आप उससे कहीं अधिक खूबसूरत है!! रवि ने कहा।
दोंस्तों, हम तीनों से पहले हल्की बिअर पी, फिर स्नैक्स और काजू के साथ व्हिस्की पी। अब चुदाई का मौसम बनने लगा। मैंने रवि से कहा कि मेरी गर्लफ्रेंड को चोदना जरूर मगर प्यार से। वो कोई रंडी बन्दी नही है। एक अच्छे घर की लड़की है। रवि ने हाँ में सिर हिलाया।

हम तीनों सोफे पर आ गयी। कई दिनों से मेरा ही लण्ड खा खा के जोया थोड़ी बोर हो गयी थी। इसलिये आज जब वो रवि का लण्ड खाएगी तो थोडा उसका टेस्ट भी अलग हो जाएगा। जोया बंदिशों में बंधने वाली लड़की नहीं थी। वो कॉंफिडेंट, इंटेलिजेंट, और मॉडर्न लड़की थी। जोया एक मर्द तक सीमित रहने में विस्वास नही करती थी। वो अलग अलग मर्दों से कसके चुदवाने में भी विस्वास करती थी। जब एक मर्द कई लड़कियों को चोद सकता है तो एक लड़की कई मर्दों से क्यों नही अपनी चूत मरवा सकती है। बस दोंस्तों, जोया इसी सिद्धान्त पर चलने वाली मस्त अल्हड़ लड़की थी। रवि उसे एकदम ने नही पेलना चाहता था, वो तो उसे आराम से धीरे धीरे कामुक अंदाज में पेलना खाना चाहता था।

girlfriend ko dost se chudwaya girlfriend sexy story

जोया के साथ थ्रीसम

रवि ने जोया को सोफे पर लिटा दिया। रवि ने उसके हाथ अपने हाथ में ले लिया और उसके लबों पर अपने जलते हुए लब रख दिए। जोया हल्का शरमा रही थी। क्योंकि उसने इससे पहले सिर्फ मुझसे हि चुदवाया था। किसी गैर मर्द का लण्ड खाना किसी भी जवान लड़की के लिए बड़ी बात होती है और मैंने पहले ही बताया कि जोया कोई रंडी नहीं थी। वो एक अच्छे घर से सम्बन्द रखती थी। वो हल्का शरम कर रही थी। पर रवि ने उसे समज महसूस कराया। अब वो भी रवि के होंठ पीने लगी। मैंने भी अपने शर्ट और जीन्स उतार दिए। मैं भी जोया को रवि के साथ चोदने खाने की तैयारी करने लगा। गुलाबी सलवार सूट में जोया बिलकुल कहर बरपा रहीं थी। रवि बड़े आराम ने इत्मीनान से जोया के गुलाबी होंठों को पी रहा था।

मैंने खूबसूरत होंठ तो कई लड़कियों के देखे थे, पर जोया की बात ही अलग थी। होंठ क्या थे दोंस्तों बिलकुल मिठाई थी। दिल तो बस यही करता था कि एक बार खूब चूस लू और एक बार इसके मुँह में लण्ड देकर इसके मस्त लाल होंठों से अपना लण्ड चुस्वाऊँ। रवि का भी कुछ ऐसा ही दिल कर रहा था। वो जोया के होंठों को लगभग लगभग चबा चबा कर खा रहा था। रवि की लार और जीभ जोया के मुँह में चली गयी थी। दोनों मस्त चुम्बन कर रहे थे। दोनों फ्रेंच किस कर रहे थे। मैं जोया के पैरों को चूमने चाटने लगा। रवि के हाथ अब जोया के मस्त हसीं बूब्स पर दौड़ने लगे। वो उसके बूब्स देखने के लिए मरा जा रहा था।

रवि ने जोया के गुलाबी दुप्पटे को हटा दिया और दूर फेक दिया। उसकी मस्त गदरायी छातियाँ अब विज़िबल होने लगी। रवि अब उसके दूध को हल्के हाथों से दबाने लगा। जोया चिहुँक उठी। रवि ने उसके दोनों हाथ ऊपर कर दिए और उसका सूट निकाल दिया। बॉप रे!! जोया के दूध को देखकर रवि की लार टपक गयी। ओहः कितने सूंदर बूब्स थे जोया के। रवि की तो एक बार साँसे ही थम गयी थी। इससे पहले रवि कई लड़कियों को चोद चूका था पर इतने सुंदर मम्मे उसने आज तक नहीं देखे थे। जोया उस पर बिजलियाँ गिरा रही थी। वो लकड़ी नही कयामत थी। लग रहा था कहीं रवि उसकी चूत लेने से पहले गॉड को प्यारा ना हो जाए।

जोया के बूब्स बेइंतहा खूबसूरत थे। इतने दुधिया थे की लड़कों के लण्ड उसे चोदने से पहले ही झड़ जाए। खूब बड़े बड़े नारियल जैसे तिकोने नुकीले मम्मे थे उसके। अगर एक बार आप देख ले तो आपका दिन बन जाए। रवि से अब रहा था गया। वो जोया के बाये दूध को पागलों की तरह पी रहा था। जोया के दूध के चारों ओर बड़े काले चिकने घेरे भी थे जो की उसके बूब्स की अलसी सुंदरता थी। रवि पागलों की तरह जोया के दूध पीये जा रहा था। उसका बस चलता तो वो दोनों दूध एक साथ मुँह में भर लेता पर ऊपरवाले ने उसे एक मुँह ही दिया था।

वो खूब काट काट के मुँह चबा चबा के जोया के दूध पी रहा था। जबकि मैं उसके पैर की उँगलियाँ चूस और चाट रहा था। मैंने जोया की सलवार का नारा खोल दिया। नारा सर्र की आवाज करता हुआ खुल गया। मेरा दिल खुश हो गया। चलो जोया रोज रोज मेरा लण्ड ही खाती थी, आज उसका भी कुछ मनोरंजन हो जाएगा। मैंने सोचा। मैं उसकी नँगी चिकनी टाँगों को सहलाने, चूमने चाटने लगा। वही रवि अब जोया का दुसरा दूध मुँह में भरे था। उसकी आँखें बंद थी। वो मेरे माल के दूध मेरे सामने बेधड़क पी रहा था। जबकि दूसरे हाथ से वो जोया के दूसरे निपल की काली भुंड़ी को निर्ममता से मसल रहा था।

ये सिन देखकर तो मेरा लण्ड बेताब हो गया। मैं जल्द से जल्द जोया को रवि से चुदते देखना चाहता था। सच में दोंस्तों किसी लौण्डिया को बंद कमरे में अकेले अकेला चोदने खाने में मजा नहीं है। असली मजा तो लौण्डिया को मिल बाट कर खाने में है। बस अब तो मेरा मन कर रहा था कि रवि अपने मस्त लंबे लण्ड से जोया की मलाईदार चूत को फाड़कर रख दे। वो आह आह चिल्लाये और रवि उसको बस पेलता जाए। मैं जोया की चूत में ऊँगली करने लगा। अब वो मस्त चुदासी और गर्म होने लगी। उधर रवि उसके दूध पी रहा था। निपल्स को मसलने से जोया की काली नुकीली निपल्स अब खड़ी हो गयी थी। मुझे ये देखकर अब बहुत सुख मिला था। मैं जोया की चूत में अब जल्दी जल्दी ऊँगली करने लगा। उसकी बुर के लंबे लंबे होंठों को मैंने बड़ी प्यार से पुचकार कर चुम लिया। एक हाथ से जोया की बुर के होंठ को सहलाने लगा, तो दूसरे हाथ से मैं उसकी बुर में ऊँगली करने लगा। लौण्डिया अब गर्म होने लगी।

रवि अब खड़ा हो गया। उसने अपनी टी शर्ट उतार दी। हम दोनों की जोया पर लद गये थे। रवि 6 फुट का जवान लड़का था। उसका लंड ये हाथी जैसा लम्बा था। उसने अपना लण्ड जोया में मुँह में डाल दिया और उसका मुँह चोदने लगा। मुझे बड़ा सुख मिला ये देखकर।
रवि मेरे यार! साली को इतना आज की इसकी बुर फट जाए! अगर इसकी चीखे ना निकली तो समझ् लेना तू मर्द नही! मैंने रवि से कहा
वो दुगुने जोश में आ गया। अब तो वो और जोश ने मेरी गर्लफ्रेंड का मुँह चोदने लगा। मैं और जोर जोर से जोया की बुर में ऊँगली करने लगा। अब लगभग 30 मिनट हो गए थे। उसकी चुट गीली और नरम हो गयी थी। मैंने दो उँगलियों से जोया की मलाईदार बुर को देखा तो मौज आ गयी। उसकीं बुर से उसका मक्खन अब बह रहा था।

रवि हपर हपर जोया के मुँह को अपने लंबे लण्ड से चोदने लगा। उसे साँस नही आ रही थी।
ध्यान से यार!! ये कोई रंडी नहीं है!! मैंने कहा।
अब मेरा यार रवि ने अपना लम्बा लण्ड निकाल लिया। जोया साँस लेने लगी। फिर उसने अपना लण्ड उसके मुँह में पेल दिया और जल्दी जल्दी उसका मुँह चोदने लगा। जोया मस्त चुदासी हो गयी। वो जल्दी अपने मम्मो को खुद ही दबाने लगी। मैंने उसकी बुर पीने लगा। मैं अपनी जीभ से लपर लपर करके जोया की बुर पीने लगा। क्या मस्त दाल मखानी जैसी बुर थी उसकी। पिछले हफ्ते में खुद उसकी बुर की झांटे बनांई थी। जिससे अब उसकी बुर बहुत गोरी गोरी निकल आयी थी। मस्त चोदन के लिए मैंने ऊपर एक तितली भी बना दी थी।

अब मैंने एक दो बार अपने लण्ड पर हाथ मारा। लण्ड अब खड़ा हो गया। ऐन वक़्त पर मेरा विचार बदल गया।
ले रवि!! पहले तू चोद ले इस छिनाल को!! तू तो मेहमान है। मैं तो रोज ही पेलता खाता हूं छिनाल को!! मैंने रवि से कहा।
रवि ने जोया का मुँह चोदना अब बंद कर दिया और इस तरह आ गया। मैं उसकी जगह चला गया। अब मैंने अपना लण्ड जोया के मुँह में दे दिया। रवि का लण्ड अब जोया के मुँह और उसके हसीन ओंठों को चोदकर बिलकुल सुर्ख लाल हो गया था। रवि से अपना सुपाड़ा उसकी बुर के दरवाजे पर रखा और होले से धक्का दिया। हच की आवाज करता लण्ड जोया की बुर में उतर गया।  मैं बहुत खुश हुआ। चलो बेचारी को आज एक नया लण्ड तो प्राप्त हो गया।

रवि जब उसे चोदने लगा, तो मैं कैसे इंतजार कर सकता था। इधर मैं भी जोया के सिरहाने खड़ा था। मैंने जोया के सिर को कानो के पास से पकड़ रखा था और मैं भी अब उसको चोदने लगा। जोया कितनी भाग्यशाली थी, एक साथ 2 2 लण्ड खा रही थी। रवि उसे लेते लेते उसकी मस्त गोरी गहरी नाभि से खेलने लगे। चूमने चाटने लगा। मुझे जरा ईर्ष्या हुई। मेरे माल को देखो कितने मजे से पेल खा रहा है। मैं भी अब जल्दी जल्दी जोया के मुँह को चोदने लगा। रवि तो हचाहच करके उसकी बुर फाड़ने लगा। ओहः मॉम!! ओहः मोम!! जोया चिल्लाने लगी।

रवि उसकी सित्कारे सुनकर खासा खुश हुआ। वो जोर जोर से गच्च गच्च पेलने लगा।
फक मी!! बेबी!! फक मी हार्ड!! ओहः यू आर सो फकिंग गुड़ रवि!! जोया चिल्लाने लगी। ये देखकर मुझे जोश चढ़ गया। मैंने उसे 8 10 थप्पड़ उसके मुँह, मम्मो और उसकी निपल्स पर जड़ दिए। ले रंडी!! कितना लण्ड खाएगी!! मैंने कहा और जोर जोर से उसके दूध दबाते हुए उसके मुँह को चोदने लगा। उधर रवि ने तो जोया को जानवरों की तरह चोदा उस दिन। 40 मिनट तक चोदने के बाद भी वो नही झड़ा। अब वो हट गया। मेरी जगह आ गया। अब मैं गया।

मैंने जोया को उल्टा सोफे पर लिटा दिया। उसका पेट अब नीचे चला गया। रवि उसके मुँह को  चोदने लगा। मैंने पीछे से जोया के चूतड़ों को चूमा और उसके मस्त गोलों से कुछ देर खेला। अब मैंने उसकी बुर में पीछे से लण्ड डाल दिया और उसे चोदने खाने लगा। आहहा मजा आ गया दोंस्तों उस दिन। मैंने 20 मिनट इस छिनाल को चोदा। और उसकी बुर में माल छोड़ दिया। जोया ने एक नैपकिन से साफ किया। अब फिर रवि आ गया। उसने जोया को अब कुतिया बना दिया। पहले तो रवि ने जोया की मस्त गदरायी गाण्ड को खूब चाटा। वो उसमे ऊँगली भी करने लगा।

जब गाण्ड का छेद नरम हो गया तो रवि से अपना लण्ड उसमे ढूस दिया। जोया की आँखों में दर्द के आँशु आ गए। ये देखकर मेरी आँखे खुशि से नम हो गयी। चलो आज तो एक पराये मर्द का लण्ड तो खा ही लिया इसने। फिर दोंस्तों रवि ने उसकी मस्त गाण्ड मारी। उस रात हम दोनों ने जोया को अनगिनत बार चोदा। उस सुख सागर में डूब गई।

——–समाप्त——–

 फिर तो ये किस्सा चल पड़ा, कभी हम उसकी गर्लफ्रेंड की लेते कभी मेरी गर्लफ्रेंड की। आशा है आपको ये girlfriend sexy story पसंद आई हो..

और भी मस्त Indian sex stories पढ़िए My Hindi Sex Stories पर..