खेत में घमासान – IV

By   December 27, 2016
loading...

मुझे ये सब देखने में मज़ा आ रहा था. माँ की गांड का माल खाने के लिए मरा जा रहा था मेरा दोस्त.. पर मुझसे ये सब नहीं होगा, मुझे तो अपनी बहन की चूत मारनी है. पढ़िए इस village sex story का आखिरी भाग..

Hindi Sex Story के अन्य भाग-

पार्ट 1

पार्ट 2

पार्ट 3

पार्ट 4


उन्हें चोदते हुए देख कर मैंने अपनी मां की चूत के बारे में सोचना शुरू किया. मैंने आज देखा था कि मां की बुर का छेद बड़ा है, जिसे भोसड़ा कहते हैं. मुझे मां का भोसड़ा आराम से ठीक से देखने की तीव्र लालसा थी. मैं भाग कर घर पहुंचा. दरवाजा खटखटाया तो मेरी प्यारी सुंदर छोटी बहन पूनम ने दरवाजा खोला. वह आधी नींद में थी. मुझे दरवाजा खोल कर वह अपने कमरे की ओर सोने चल दी. पीछे से मैंने उसके भरे हुए कसे कमसिन चूतड़ देखे तो मन ही मन धीरे से बोला “साली क्या मस्त गांड है तेरी मेरी प्यारी बहना. ठहर जा आज रात तेरी गांड में लंड दूंगा.” मेरी बहन ने बड़े निर्दोष भाव से पीछे मुड़ कर पूछा “भैया कुछ कहा क्या.”

मैं बोला “कुछ नहीं तू जा.” मैं जानता था कि पूनम को चोदने के लिये अभी वक्त था, पहले तो मुझे अपनी मां चोदना थी. मैंने अपनी बहन को पूछा “मां कहां है?”

वह तपाक से मुड़ कर बोली “बाथरूम में भोसड़ा खोल के मूत रही है.” मैं उसे देखने लगा. पूनम मेरी ओर देखकर शैतानी से मुस्कराई और अपनी चूत पर हाथ रखकर बोली “यह मेरा भोसड़ा है भैया, आज मां का भोसड़ा मारा है आपने खेत में, मेरा भी मार दो.” मैंने उसकी ओर मुस्कराकर कहा “पहले मां की चोद लेने दे, फिर तेरी मारूंगा. और भोसड़ा तो ममी का है, तेरी तो बुर है”

मैंने फ़िर ज़िप खोल कर अपना लंबा तगड़ा लंड उसे दिखाया और कहा “यह मेरा लंड देख रही है ना, यह साला पूरा तेरी चूत में दूंगा आज रात को”

वह मेरे खड़े लंड को देखकर चुप हो गयी. मैंने कहा “बहन, फ़िकर मत कर, मां को चोद लेने दे, फ़िर आ के तुझे चोदता हूं” तभी मैंने देखा कि मां दरवाजे पर खड़ी थी. अभी अभी मूत कर आयी थी. मेरे लंड को देखकर बोली “बेटे, अपनी छोटी बहन को अपना लौड़ा दिखा रहा है?”

loading...

फ़िर मां मेरी छोटी बहन की ओर मुड़ कर बोली “तू क्या कर रही है खड़ी खड़ी, चल अपने भाई को अपनी चूत खोल कर दिखा”. पूनम शरमा कर हिचकिचा रही थी तो मां ने उसे डांटा. “चूत जल्दी से नंगी कर ना ऽ अपनी” फ़िर मां हमें बोली. “जब मैं छोटी थी ना तब मैं अपने भाई को अपनी चूत पूरी नंगी करके दिखाती थी.”

अब तक मेरी बहन ने अपनी सलवार निकाल दी थी और अब चड्डी उतार रही थी. चड्डी उतार कर वह खड़ी हो गयी पर मां ने उसे डांट कर अपनी जांघें खोलने को कहा जिससे मैं ठीक से उसकी चूत देख सकूं. जैसे ही मेरी बहन ने अपनी जांघें खोल कर अपनी गोरी कमसिन चूत मुझे दिखाई, मेरा तन्नाकर और खड़ा हो गया. जब मां ने मेरा खड़ा लंड देखा तो बोली “हाय, भाई का खड़ा ना हो अपनी बहन की चूत देखकर, ऐसा कभी नहीं हो सकता है”

फ़िर मां बोली “जो लड़के अपनी मां बहनों की चोदते हैं, उनके लंड हमेशा टाइट रहते हैं.” फ़िर वह बोली कि सिर्फ़ मैं ही पीछे रह गया था नहीं तो हमारे इलाके में परिवार में चुदाई तो आम बात थी. बाहर कोई नहीं जानता पर सब परिवार के लोग आपस में एक दूसरे को खूब चोदते हैं.

मैंने पूछा “मां. सच बता, मामाजी चोदते हैं तुझे?”

khet ghamasan village sex story

मेरी बहन की कमसिन जवानी

“तू तो जानता है बेटा. मेरा भाई तब से मुझे चोदता है जब मैं इतनी सी थी.” मां ने कहा.

फ़िर मां मेरे पास आ कर बोली “बेटा, अब तो अपनी मां बहन को नंगी करके नचा दे” मैं अब बहुत उत्तेजित था और उन दोनों को कलाई पकड़ कर बेडरूम की ओर घसीटते हुए बोला “अच्छा! क्या तुम दोनों मेरे लिये नंगी होकर नाचोगी?” मां ने मुड़कर कहा “ठहर मैं घर के सारे दरवाजे बंद करके आती हूं, फ़िर तेरे सामने नंगी होकर ऐसे नाचूंगी कि तू मुझे रंडी कहेगा”

मां जब दरवाजा बंद करने गयी तो मेरी बहन मेरी ओर मुड़कर बोली “भैया, मेरी सब सहेलियों के भाइयों ने उनकी चूतें मार मार के खोल दीं हैं, वो तो सब बैठ के अपने भाइयों के लंड के बारे में बोलती हैं. पर भैया आपने मेरी चूत पहले क्यों नहीं मारी? मामाजी कितना चोदते हैं मां को हर रात, मुझे सब सुनाई देता है. तुम नहीं चोदोगे तो मैं मामाजी से चुदा लूंगी”

मैंने उसे बाहों में लेकर कहा. “सुन, आज तेरी चूत खोल दूंगा.” वह बोली “भैया आज मेरे साथ गंदी गंदी बातें करो.” मैंने कहा “जरा मां को तो आने दे” हम पलंग पर बैठ कर मां का इंतजार करने लगे. मां वापस आकर हमारे पलंग पर बैठ गयी, मैं बहुत खुश था. आज मैं एक साथ अपनी मां और बहन को चोदने वाला था.

मां आयी और बोली “ऐसे ही बैठा है लंड पकड़कर? मुझे तो लगा था कि अब तक तू पूनम की ले चुका होगा.”

“पहले तेरी लूंगा मां, फ़िर तेरे सामने पूनम की खोलूंगा” मैंने लंड हाथ में लेकर कहा.

“हाय आज ली तो थी बेटा तूने खेत में! फ़िर पीछे से गांड भी ले ली थी. चल फ़िर से चोद ले मुझे” मां अपनी बुर को सलवार पर से रगड़ते हुए बोली. मैं मां का हाथ पकड़कर अंदर ले गया.

“पूनम तू भी आ, मेरे बाद तेरी बारी है” मां ने कहा.

मां के कमरे में जाकर मैंने उससे कपड़े उतारने को कहा. मां ने सलवार का नाड़ा खोल दिया. उसकी सलवार नीचे गिर गयी. अंदर उसने कुछ नहीं पहना था.

“मां, कुरता भी निकाल दे, तेरे को नंगी देखूंगा” अपने लंड को पकड़कर मैं बोला.

मां मुझे तकती हुई बोली “हाय, बहन के सामने नंगी करेगा अपनी मां को”

“हां, मैं तो बहन के सामने मां को चोदूंगा. अब नखरे मत कर” पूनम मेरे पीछे खड़ी थी. उसने अपनी कुरती उतार दी. मेरी छोटी बहन अब मेरे सामने पूरी नंगी खड़ी थी.

“मां नखरा कर रही है भैया, तुम मेरी ले लो जल्दी से” मेरे लंड को पकड़कर वो बोली.

“पूनम रुक, अभी देर है तुझे चुदने में” मां ने अपना कुरता उतार दिया. उसके भरे भरे मांसल स्तन अब मेरे सामने थे. उन्हें दबाते हुए मैंने मां को पूछा “बोल, गांड मरवायेगी या चुदवायेगी?”

“अभी तो चोद दे अपनी मां को” मां ने कहा. अब तक गरमाकर वह अपनी फ़ुद्दी में उंगली कर रही थी. भैया मां की चूत चाट लो. सब चाटते हैं अपनी मां बहन की चूत” पूनम बोली. मां झल्ला कर बोली “अरे चोदने दे ना पहले, चाट तो कोई भी लेगा, तू कितना अच्छा चाटती है रोज”

मैंने पूनम की ओर देखा “हां भैया, मां मुझसे फ़ुद्दी चुसवाती है, अब आप या मामाजी चोदने को नहीं रहोगे तो क्या करेगी? मुठ्ठ मारेगी?” पूनम बोली.

मुझे तैश आ गया. लंड सनसना रहा था पर फ़ुद्दी चाटने की बात से मेरा सिर घूम रहा था. मां खाट पर बैठ गयी और अपनी बुर खोल दी. “ले देख ले, मरा जा रहा था ना अपनी मां का भोसड़ा देखने को?”

मैंने मां की बुर को पास से देखा और फ़िर उसे लिटा कर मैंने अपना मुंह उसकी बुर के फ़ूले पपोटों पर लगा दिया और चाटने लगा.