मौसी की लड़की – II

By   January 7, 2017

निशा की सील टूटते देख अब मेरी भी अपनी बहन सपना की सील तोड़ने की इच्छा जग गयी थी। मुझे विश्वास था सपना के भाई बहन मेरा साथ देंगे। पर क्या ऐसा हो पाया? पढ़िए इस sister sexy kahani का लास्ट पार्ट.

Hindi Sex Story के अन्य भाग-

पार्ट 1

पार्ट 2


जब मैने सपना की बड़ी बहन रजनी और बड़े भाई से सब गुप्त ज्ञान ले लिया तो मुझे भी चूत और गांड मारने की इच्‍छा होने लगी। अब बस मैं सपना के बारे में ही सोच रहा था की किसी दिन वो मेरे पास सो जाए। क्योंकि सपना की बड़ी बहन की बात मेरे मन में घर कर गई थी। अब तो सपना मुझे और भी अच्‍छी लगने लगी थी। बस अब तो मैं सपना की चूत को और गांड को मारना चाहता था। पर ऐसा हुआ नही। क्योंकि उसके मम्मी और पापा बहुत सख्त है।

loading...

दो साल बाद, एक दिन मैं सपना के घर गया। सपना घर पर अकेले ही थी। वो घर का सारा काम कर रही थी। उसने अपने स्कूल की ड्रेस पहन रखी थी सफेद स्कर्ट और सफेद कमीज़। कमीज़ कुछ हल्के कपड़े में थी इसी लिए ज़हाँ भी उस पर पानी गिरता वहीं से सब कुछ दिखाई देने लगता। अचानक उसके हाथ से मग्गा छूट गया। और उसके उपर पानी गिर गया तो मैंने देखा सपना ने तो सफेद ब्रा पहननी शुरू कर दी है। उसने अपने उपर के दो बटन भी खोल दिए और मुझे उसने देखा भी पर मेरी हिम्मत नही हो रही थी। मैं तो बस इसी इंतज़ार में था कि किसी तरह सपना मेरे पास सोए तो मैं उसके साथ कुछ करूं।

अब जैसे ही सपना मग्गा उठाने के लिए नीचे झुकी तो उसकी कमीज़ भी गले से अलग हो गई और उसकी अंदर से सफेद ब्रा साफ दीख रही थी। मैं तो उसकी ब्रा देखता ही रहा क्योंकि ब्रा का साइज़ बहुत बड़ा था। क्योंकि उसकी चूची उस से भी बाहर आ रही थी। उसकी बड़ी और गोरी चूची और भी अच्छी लग रही थी। मन तो कर रहा था कि उसकी दोनो चूची को बहुत तेज़ दबाकर उन में भरा सारा दूध निकालकर पी जाऊं। लेकिन क्या करता मजबूर था कि कही वो शोर ना मचा दे।

उस रात मैं सपना के घर पर ही रुका था। और उसके बड़े भाई के साथ ही सो रहा था और वो मुझे अभी भी गुप्त ज्ञान की बात बता रहा था। सुबह को जब मैं उठा और नहाने के लिए गया। तो सपना की ब्रा कपड़ो पर पडी हुई थी। मैंने उसे उठाया सफेद ब्रा क्या लग रही थी। वो सूती कपडे की थी। और फिर उसे चूमा और फिर उसे अपने लंड पर भी घुमाया उसका साइज़ देखकर मैं तो दंग रह गया। उसका साइज़ 36”था। मैं नहा कर बाहर आया और अपने घर आ गया।

उसके बाद कई बार और कई जगह पर सपना‍ मिली पर मैं उससे इस बारे में बात नहीं कर सका। बस मैं ही जानता हूँ कि मैंने वो दो साल ‍िकस तरह से बिताए। फिर मैं एक दिन सपना के घर गया तो मैं, सपना और मौसी रात को सोने के लिए ऊपर चले गये। वो दिन आज तक मुझको याद है। सपना और मेरे बीच में मौसी सो रही थी। मैं तो बस अब इसी इंतज़ार में था कि किसी तरह हमारे बीच से मौसी हट जाएँ पर मौसी वही पर मुझसे बात करती रही और सपना सो गयी। फिर मैंने भी मौसी से कहा के मुझे भी नीद आ रही है। और मैं सोने का बहाना करने लगा पर मुझे नीद नही आ रही थी।

mausi ki ladki sister sexy kahani

सपना का नटखट बदन

loading...

फिर रात को एक बजे मौसी उठ कर नीचे चली गयी। मैं भी उठ कर नीचे देखने लगा और मैंने देखा की मौसी, मौसा के पास चली गयी। और उनकी खाट पर ही लेट गयी। मौसा मौसी के कपड़े उतार कर उन को चूम रहे थे। अब उन दोनो को देख कर मेरा लंड भी बहुत तेज़ झटकें मारने लगा। मैं सपना के पास आया और उसे देखने लगा। सपना आज भी स्कर्ट और कमीज़ में ही थी। मैं उसके पास ही लेट गया और उसकी कमीज़ के बटन खोलने लगा। सपना ने दो बार मेरा हाथ हटाया पर आज का मौका मैं किसी किम्मत पर खोना नही चाहता था।

मैंने हिम्मत और डर के साथ उसकी कमीज़ के तीन बटन खोल दिए। अब उसकी ब्रा साफ दिख रही थी। सूती कपडे में ब्रा अच्छी लग रही थी और सपना भी उस ब्रा मे अच्छी लग रही थी। र्मैं उसके बराबर मैं ही लेट गया और अपनी लूँगी उतार दी और धीरे से उसके हाथ में अपना लंड निकाल कर उसके हाथ पर रख दिया। और उसकी कमीज़ के अंदर अपना एक हाथ डाल दिया। सपना ने मेरा हाथ हटा दिया।

मैं कुछ देर सोचता रहा कि क्या करूं। फिर दोबारा से मैंने सपना के ब्रा पर हाथ रखा अब की बार उसने कुछ भी नही कहा। मैं धीरे-धीरे उसकी चूची को दबाता रहा। फिर एक दम मुझको झटका सा लगा कि उसने मेरे लंड को पकड़ लिया मैं तो घबरा ही गया था। मैंने उसकी आँखो को देखा तो बंद थी। फिर मैं उसकी चूची को दबाने लगा उसके बाद मैंने अपने हाथ से उसका हाथ पकड़ा और अपने लंड को उसके हाथ में पकड़ा कर हिलने लगा और दूसरे हाथ से उसकी स्कर्ट को उपर कर के उसकी कच्छी में हाथ डाल दिया। मैंने देखा कि उसकी चूत पर काटें से थे। मैंने उसकी चूत के उपर से हाथ फेरना शुरु कर दिया।

अबकी बार सपना ने मेरे लॅंड को हिलाते हुए पकड़ लिया। मैने फिर उसकी आँखो में देखा, उसने आँख खोली और बंद कर ली। जैसे उसने कुछ देखा ही नही। मैं समझ गया था कि वो जाग चुकी है। पर सोने का बहाना कर रही है। अब तो मेरी हिम्मत ज़्यादा बढ गयी। मैंने उसकी कच्छी से हाथ निकाला और उसके और अपने उपर चादर डाली और उसकी कमीज़ को स्कर्ट से बाहर निकाला और कमीज़ के बाकी बचे हुए बटन भी खोल दिए और उसे अपनी तरफ कर के उसकी ब्रा को चूसने लगा अब उसे भी मज़ा आने लगा। उसने भी अपनी एक टाँग जाँघ तक मेरी टाँग के उपर इस तरह रख दी की मेरा लंड उसकी कच्छी के बीचो बीच चूत पर रहे। और फिर मुझे भी जोश चढा और मैं भी धीरे-धीरे झटके मारने लगा।

loading...

अब उसकी प्यासी चूत और मेरे प्यासे लंड के बीच बस उसकी कच्छी की नाम मात्र के लिए दीवार थी। मैं अपने लंड पर उसकी चूत और वो अपनी चूत पर मेरे लंड को महसूस कर सकती थी। फिर मैने उसके पीछे कमीज़ के अंदर हाथ डाला और उसकी ब्रा को खोल दिया। उसकी ब्रा अब ढीली हो चुकी थी। मैंने अपने मुंह से ही उसकी ब्रा को उपर किया। और उसकी चूची देखने लगा। मैने किसी लड़की की चूची पहली बार देखी थी। उसकी गोरी और बड़ी चूची मेरी आँखो के सामने बिल्कुल नंगी थी। मैं अब उसकी चूची को चूसने लगा उसके भी मुंह से एक दम सिश की आवाज़ निकल गई।

अब वो अपनी चूत से मेरे लंड पर ज़ोर देने लगी। अब मेरा लंड और भी मोटा और लंबा हो गया था। मैने अपने लंड को हाथ से पकड़ा और उसकी कच्छी पर बिलकुल उसकी चूत के छेद के उपर रखकर धक्का मारा। और कच्छी समेत मेरे लंड के अगले भाग का बहुत थोड़ा सा हिस्सा ही अंदर गया और वो आहा करने लगी। क्योंकि वो अभी तक किसी से चूदी नही थी इसी लिए उसकी चूत बड़ी ही टाइट थी। फिर एक दम से उसने मेरे लंड को अपने हाथ से अपनी चूत से बाहर कर दिया। और अपनी चूत पर हाथ रख लिया।