मौसी की लड़की

By   January 6, 2017

ये sex kahani मेरी और सपना की है। अभी मैं सेक्स के बारे में कच्चा था। पर फिर मैंने सपना के साथ जो किया वो उसके सगे भाई बहन की वजह से ही हुआ। अब मैं आपको अपनी जबरदस्त sister sexy story सुनाता हूँ.

Hindi Sex Story के अन्य भाग-

पार्ट 1

पार्ट 2


हम दोनो के नाम इसमें बदले हुए हैं। दरसल, सपना मेरी मौसी की लड़की है। मेरी मौसी की लड़की यानी मेरी मम्मी की मौसी की लड़की की लड़की। सपना मुझसे दो साल बड़ी है। सपना के परिवार से हमारे बहुत अच्‍छे रिश्तें है। सपना को मैं बहन ही मानता था। परन्तु, मुझे सपना की बड़ी बहन रजनी और उसके बड़े भाई ने ही बिगाड़ा था।

सपना की नानी मेरी नानी के घर के पास ही रहती थी। क्योंकि वो बहुत छोटी उम्र में ही विधवा हो गई थी। और उनके केवल दो लड़की ही थी। इसीलिए मेरे नाना उनको अपने पास ही लियाऐं थे। और उनको अपना एक घर भी दे दिया था। सपना की नानी अकेली रहती थी। इसीलिए सपना की मम्मी ने गाँव में नानी के पास अपनी बड़ी लड़की रजनी को छोड़ दिया था।

हुआ यूँ कि एक बार मैं अपनी मम्मी के साथ नानी के घर गया। शाम को मैं नानी के घर से सपना की नानी के घर चला गया। वहाँ पर मुझे सपना की बड़ी बहन रजनी मिली। रजनी ने दरवाज़ा खोला और मुझको अंदर बुला लिया। मैं अंदर पहुँचा और एक खाट पर बैठ गया। वहीँ पर रजनी भी मेरे पास बैठ गई। कुछ देर तो उसने मुझसे बात की। फिर थोड़ी देर बाद वो लेट गई और अपनी सलवार में हाथ डालकर हिलाने लगी। कुछ देर तो मैं भी यूँ ही देखता रहा और फिर मैंने पूछा के ये क्या कर रही हो। उसने कहा के मेरी चूत में खुजली हो रही है। मैं इसको खुज़ा रही हूँ। मैंने कहा ये चूत क्या होती है तो वो बोली अभी तू बच्‍चा है बड़ा हो कर जब चूत मारेगा तो सब समझ जाएगा।

मैंने कहा – मारेगा ? तो वो बोली हाँ तभी तो बच्‍चे पैदा होते है। मैंने कहा इसे कैसे मारते हैं? वो बोली किसी से तू कुछ कहेगा तो नही मैंने कहा नही। तो बोली वादा कर मैंने कहा वादा रहा। फिर उसने झट से अपनी सलवार उतार दी और मुझसे बिल्कुल चिपक गयी। मुझे कुछ पता ही नही था मेरी समझ में नही आ रहा था कि हो क्या रहा है। फिर मैं बोला ये क्या कर रही हो वो बोली चूत मारना सीखना है या नही मैं चुप रहा।

फिर वो बोली तू मुझको आज खुश कर दे फिर तुझको मैं सपना की चूत भी दिलवा दूँगी मैंने कहा सपना की? वो बोली हाँ। सपना को कुछ दिन बाद एक लंड की जररूत होगी और तुझको एक चूत की। इसीलिए, तुम दोनो आपस में कर लेना। मैंने कहा अभी क्यों नही तो बोली अभी सपना छोटी है। मैंने कहा कितने दिन और लगेंगे उसको वो बोली जब वो बडी होगी जब मैं तेरे से ही उसकी सील तुडवाऊंगी। अब तू चुप हो जा मुझको मज़ा आने लगा है।

फिर मैं चुप हो गया और उसे बस करते हुए देखता रहा उसने धीरे से मेरी पैंट की ज़िप खोली और मेरे लंड को निकालकर अपनी चूत पर ज़ोर ज़ोर से रगड़ने लगी और बीच-बीच में बोल रही थी कि खड़ा कर मुझे पता नही था कि खड़ा कैसे होता है। फिर उसने मेरे छोटे से लंड को अपनी चूत पर रखकर ज़ोर से झटका मारा पर मेरा लंड हल्का सा ही अंदर गया था वो बोली इसे अंदर डाल ना मैं भी कोशिश करने लगा तो मेरा लंड उसने हाथ से पकड़कर अंदर कर दिया। और धीरे धीरे हिलने लगी अब उसका पानी निकलने लगा था।

mausi ki ladki sister sexy story

नयी नयी चूत का उद्घाटन

वो बोली मुझको मज़ा आ रहा है थोड़ी देर और अंदर की तरफ ज़ोर लगा और ऊपर-नीचे हो। मैंने ऐसे ही किया थोड़ी देर बाद फिर वो बोली अब हट जा मुझको तूने मज़ा दे दिया। और उसने मुझे अपने ऊपर से हटा दिया। फिर वो मेरे लंड को पकड़ कर बोली ये अभी छोटा है इसे बड़ा करना पड़ेगा। क्योंकि लंड जितना बडा और मोटा होता है उतना ही लडकी और औरत को मज़ा आता है औरत और लडकी को बार-बार चुदने के ‍लिए कहीं ओर नही जाना पडता और तुझको भी तो बहुत मज़ा आएगा। क्योंकि तेरा लंड भी तो टाईट और सही जायेंगा। जब लंड, चूत और गाँड में टाईट और सही जाता है तो फिर दोनो को खुब मज़ा आता है।

फिर उसने मेरे गीले लंड को अपने मुंह में ङाल लिया और उसे चाटने लगी और उसे आइस्क्रीम की तरह चूस भी रही थी। फिर दरवाज़े पर कोई आ गया। उसने मेरे लंड को मुंह से निकाला और पैंट के अंदर कर दिया और मुझ से बोली अपनी पैंट बंद कर ले। फिर वो उठी और सलवार का नाडा बाँधते हुए दरवाज़ा खोलने चली गयी। वहाँ पर एक पड़ोस का आदमी था। उन दोनो में कुछ बात हुई और वो चला गया फिर रजनी अंदर आई।

मैं बोला अब सपना की सील कब तुड़वाओंगी फिर वो बोली अभी तेरा बहुत छोटा है इसे बड़ा कर। मैंने पूछा ये बड़ा कैसे होगा। वो बोली- इसे चुसवाना मैंने कहा तो तुम्ही बड़ा कर दो वो बोली ठीक है। लेकिन जब तू मुझे मिलेगा तो मैं तेरा ये बड़ा करूंगी और तू मुझे खुश कर देना। मैंने कहा ठीक है। फिर मैं अपनी नानी के घर आया और रात को खाना खाकर सो गया। सुबह हम जल्दी उठे और अपने घर पर आ गये।

अब मेरा रजनी से कोई कॉन्टेक्ट नही था। दो साल बाद मैं एक दिन सपना के घर गया वहाँ पर मुझे सपना का बड़ा भाई मिला। वो दिन राखी का दिन था। सपना की गली की एक लड़की आ‍ई हुयी थी जो सपना की सहेली थी। उसका नाम निशा था। निशा का रंग एक दम गोरा बिलोरी आँखें चूची छोटी छोटी बाल लंबे उसने एक महरुन फ्राँक पहन रखा था। फिर कुछ देर बाद सपना के घर पर हम छुपा छुपी का गेम खेलने लगे।

सपना, मैं, सपना का बड़ा भाई, निशा और गली के कुछ बच्चे। मैं, निशा और सपना बड़ा भाई एक स्टोर रूम में छुप गये। वहाँ पर मैंने देखा के सपना का बड़ा भाई अपना लंड निकल कर खड़ा था। उसका लंड बहुत बड़ा था। और वो निशा को अपनी तरफ खींच रहा था। निशा मना कर रही थी। और कह रही थी की गॅप सब को बता देगा। फिर सपना के बड़े भाई ने मुझसे पूछा के तू बताऐंगा तो नही। मैंने कहा एक शर्त पर, अगर मुझे भी सिख़ाओगे तो वो बोला ठीक है। रात को सब कुछ बता दुंगा।

फिर उसने निशा की फ्राक ऊपर की और उसकी कच्‍छी उतार दी। वो संदूक पर बैठा और निशा को अपने ऊपर बैठा लिया और निशा को ऊपर-नीचे करने लगा। कुछ देर बाद मुझे रजनी की लंड बड़ा करने की बात याद आ गई। मैं भी निशा के मुहूँ में लंड देना चाहाता था पर दरवाज़े पर खट खट की आवाज़ हुई निशा एक दम खड़ी हो गई और अपनी कच्‍छी ऊपर की और हम सब बाहर आ गये।

अब सपना के बड़े भाई की ढूंढने की बारी थी। अब की बार मैं और निशा उस ही स्टोर में छुप गये। मैंने धीरे से निशा का हाथ पकड़ लिया। वो अपना हाथ छुड़ाने की कोशिश करने लगी। मैंने उससे पूछा की तुम क्या कर रहे थे। वो बोली तेरा भाई मेरी चूत मार रहा था। मैंने कहा अच्‍छा तो ये बात है। फिर वो बोली तू भी मेरी चूत मारेगा क्या। मैंने कहा नही मुझे तो अपने लंड को बड़ा कराना है। वो बोली अच्‍छा तो लंड चूसवाना चाहता है। चल ठीक है, वो बोली निकाल अपना लंड देखो कितना बड़ा है। मैं बोला खुद ही निकाल ले।