Tag Archives: choosna

पुलिसवाले ने दबोचा

police wale ne dabocha forced sex kahani
ये forced sex kahani है एक अबला गाँव की लड़की की। जो अपनी ज़िन्दगी सवारने शहर आती है पर आते ही ज़िन्दगी उसे अलग ही मंज़र दिखा देती है। एक मस्त sex story फॉर यू.

ट्रेन में मिली प्यासी औरत – II

train me mili pyaasi aurat shemale sex stories
चांदनी की लेने गया था पर अपनी गांड चांदनी के लंड को देके आया। पर क्या मज़ा आया, अब अपनी बीवी को वहां ले जाने वाला हूँ, shemale sex stories का लास्ट पार्ट.

ट्रेन में मिली प्यासी औरत

train me mili pyaasi aurat stranger sex story
आपको अपनी असली stranger sex story सुनाना चाहता हुं जो एक हकीकत है। मुझे ट्रेन में मस्त सेक्सी औरत मिली। वो प्यासी थी और उसने मुझे अपने घर का पता दिया।

बहन चूस रही थी

bahan choos rahi thi kamuk story
हम भाई बहन जुड़वाँ थे तो प्यार भी बहुत ज्यादा था और हम जवान भी साथ साथ ही हुए. जिज्ञासाएं भी साथ जगी तो शांत भी साथ में ही की.. एक मदभरी kamuk story पेश है..

बस का चुदक्कड़ सफ़र

bus ka chudakkad safar bus sex stori
घर से हॉस्टल जा रही थी इसलिए दुखी सी थी मैं. पर उस बस के सफ़र ने जो अनुभव मुझे दिया उससे मुझे पता चला की मैं कितनी चुदासी लड़की हूँ. एक जबरदस्त bus sex stori.

घर की बहु – II

ghar ki bahu hot sexy stori
अपने ससुर से चुदवा के बैठी थी और नौकर से चुदवाने के लिए उनसे दुआ भी करवा रही थी। खैर, इस hot sexy stori के इस भाग में देखते है उनकी दुआ काम आती है या नहीं..

दीदी की रसीली चूत – II

didi ki raseeli choot desi sex story
दीदी अब पिघल रही थी। उसके मस्त मम्मे मेरे सामने थे। बस किसी तरह उसकी चूत में घुस जाऊं। उनकी मस्त गुलाबी चूत। पढ़िए इस जबरदस्त desi sex story का आखिरी पार्ट.

कहानी एक परिवार की – IV

kahani ek pariwar ki family sexy kahani
दामिनी परेशान थी की बेटे को कैसे समझाए पर दूसरी तरफ अपने लंड की प्यास भी तो बुझानी थी। उसके भी तो अरमान है। रिश्ते की कशमकश की मस्त family sexy kahani..

कहानी एक परिवार की

kahani ek pariwar ki family sex story
एक खुशहाल परिवार में भी ग़म होते है, एक ऐसा ग़म है सेक्स की कमी या फिर सेक्स की सच्ची संतुष्टि। आज एक ऐसे ही परिवार की family sex story शुरू करने जा रहा हूँ..

सुनयना का दर्द – III

sunayna ka dard kamukta sex stories
सुनयना के समर्पण और खुले निमंत्रण को देखकर मैं चौंक गया. मेरा मन कब तक मेरे लंड को समझाता, आखिरकर उस बेचारे की भी तो कुछ आशाएं है. मस्त kamukta sex stories