ठाकुर की 3 नाजायज़ बेटियां

By   October 7, 2016

हेलो दोस्तों, मैं यहाँ एक ऐसी दास्ताँ बयां करने जा रहा हूँ जिसकी कशिश और कामना आपको ज़िन्दगी भर रहेगी| ये ठाकुर बलवीर सिंह की नाजायज़ बेटियों की एक साथ चुदने की hindi sexy kahani है | ये कहानी 2 भागों में है| अभी पहला भाग पेश कर रहा हूँ|

ठाकुर की 3 नाजायज़ बेटियां – पार्ट 2

ठाकुर बलवीर सिंह की शानदार हवेली लखनऊ के सबसे आधुनिक इलाके में बनी हुई थी। बलवीर सिंह एक ५५ वर्ष के बहुत ही रोबिले और रुतबेदार ठाकुर थे। गरम राजपूती खून उनकी रगों में था और इस ५५ वर्ष की अधेड़ उम्र में भी उनका बदन जवानों को मात देता था। लम्बा कसरती कद, सिर पर स्याह काले बाल और घनी मूंछे देखकर कोई भी उनसे आखे नहीं मिला पाता। जब ठाकुर जी २८ वर्ष की उम्र के थे तब उनका विवाह हुआ। पर ठकुराईन उनकी तरह तन्दुरूस्त नहीं निकली। वह जब से हवेली में आई अक्सर बिमार ही रहती। विवाह के १५ साल बाद यानि कि जब बलवीर सिंह ४३ वर्श के थे तभी ठकुराईन उन्हें औलाद का मुँह दिखाये बिना रन्डुआ बना कर ऊपर चली गयी। फिर बलवीर सिंह ने दूसरा विवाह नहीं किया।

विधुर बलवीर सिंह की हवेली फिर भी चहचहाटों से भरी हुई थी। हवेली में हर समय तीन खुबसूरत हसीन बहनों की हँसी मज़ाक कि आवाज़ ही सुनाई पड़ती थी। ये तीन हसीन बहनें ठाकुर बलवीर सिंह के स्वर्गीय बड़े भाई की निशनी थीं। लेकिन इन तीन लड़कियों के बाप ठाकुर बलवीर सिंह ही थे। आज से ३५ साल पहले बलवीर सिंह की भाभी इस हवेली में आई थीं हवेली खुशियों से भर उठी थी। फिर ५ साल बाद ही भाभी उदास रहने लगीं। बलवीर सिंह भाभी का बहुत आदर करते थे, पर देवर होने के नाते देवर भाभी के मजाकों से भी नहीं चूकते थे। जबसे भाभी खोई खोई रहने लगी। तो बलवीर सिंह भाभी के और निकट आ गये।

तभी उन्हें पता चला कि उनके बड़े भाई में भाभी की गोद भरने की हिम्मत नहीं है। उस समय बलवीर २५ साल के बहुत ही तन्दुरुस्त आकर्षक नवयुवक थे। बड़े भाई साहब ज्यादातर राजनिती में रहते थे। देवर भाभी एक दूसरे से खुल के दिल का हाल कहने लग गये था और एक बार बडे भैया जब एक सप्ताह के लिये दिल्ली गये तो देवर भाभी के सारे सब्र के बान्ध टूट गये और यह रिश्ता आज से २० साल पहले तक चला जब बडे भैया और भाभी दोनों एक साथ ट्रेन दुर्घटना में मारे गये तो बलवीर सिंह के अपनी भाभी से नाजायज़ सम्बन्ध १० साल तक कायम रहे। यानी कि बलवीर की २५ वर्ष से लेकर ३५ वर्ष की उम्र तक।

 

देवर भाभी के इस मधुर सम्बन्ध ने भाभी की गोद में एक एक करके तीन हसीन लड़कियाँ डाली। सबसे बड़ी कविता है जो आज २७ साल की एक बहुत ही खूबसूरत नवयुवती बन चुकी है। अभी वह लखनऊ की मशहूर गल्र्स कॉलेज में हिन्दी की प्रोफेसर है और साथ-साथ पी.एच.डी भी कर रही है। दूसरी शालिनी है, उम्र २५ साल और चेहरे और उसकी अदाओं में हमेशा हरियाली छाई रहती है। जब देखो तब खिले हुये गुलाब सा मुस्कराता चेहरा। वह भी गल्र्स कॉलेज में एम. ए. कर रही है। तीसरी का नाम डॉली है; उम्र २२ साल और गल्स कॉलेज में इसी बी.ए. फाईनल यिअर में आई है। सबसे छोटी डॉली टमाटर सी लाल और बहुत ही गदराये बदन की है। सबसे छोटी होने के नाते उसे हवेली में सबसे ज्यादा दुलार मिला।

बलवीर सिंह इस हकीकत से अच्छी तरह वाकिफ़ थे कि ये तीनों लड़कियाँ उन्हीं का खून हैं और जब वे विधुर हो गये तो उन्होंने दूसरी शादी नहीं की और अपनी तीनों बेटियों की हर खुशी को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ते। बे-औलाद बलवीर सिंह ने अपने ही खून इन तीनों बेटियों को बाप से भी ज्यादा प्यार दिया है। नतीजा यह हुआ कि तीनों के पन्ख लग गये तीनों बहनों का बदन बहुत ही सेक्सी था। उनकी चूचियाँ और चुत्तड़ बहुत फुल-फुले थे और कोड़ भी मर्द उनको देख कर विचलित हुये बिना नहीं रहता। इनके चाचा का लखनऊ में बहुत दब-दबा था और इसलिये कोई लड़का इनकी तरफ अपनी आख भी उठा कर दखने की जुरंत नहीं करता।

तीनों बहनों के पास सारी सुख सुविधायें मौजूद थी। बलवीर ने इन्हें आलिशान इम्पोटेंड कार दे रखी थी। तीनों लड़कियाँ एक रविवार को शाम ४ बजे के करीब कार में सवार होकर शहर में मस्ती करने निकली हुई थीं। कार कि ड्राइविंग कविता कर रही थी। कार अचानक एक जोरदार झटके के साथ रुक गयी। साथ बैठी शालिनी ने कविता से पुछा, ” कविता क्या बात है, तुमने अचानक कार क्यों रोक दी।” कविता बोली, “ज़रा कार के सामने का नजारा तो देखो कितना नशीला नजारा है। तब शालिनी और डॉली ने सामने देखा कि कार के सामने बीच सड़क पर एक कुत्ता एक कुतिआ पर चढ़ने की कोशीश कर रहा है। कुत्ते का लगभग ४ इन्च लम्बा नोकिला लंड बाहर निकला हुआ था। कुछ देर की कोशीश के बाद कुत्ते ने अपना लंड कुतिया की चूत में डाल दिया। अब कुत्ता कुत्तिया पर पीछे से चढ़ा हुआ उसे मस्ती से चोद रहा था। तब शालिनी ने कहा “यार कविता! तुम ऐसा कोई भी मौका नहीं छोड़ती”  कविता बोली, “हमसे तो किस्मत वाले यह कुत्ते कुतिआ ही है। ना जगह देखते ना मौका। जहाँ मन किया शुरू हो गये। देखो कितिया क्या मस्ती से अपनी चूत चुदवा रही है।” तब डॉली बोली, “हां हमारे चाचा बलवीर सिंह के डर के मारे कोड़ लड़का हमारी और आख भी उठा कर नहीं देखता लगता है कि अपने नसीब में कुवारी ही रहना है और अपनी चूत की आग अपनी अंगुलिओं से ही बुझनी है।”

यह सुनकर कविता ने कार स्टार्ट कर दी। वोह किन्ही ख्यालों में खो गई तीनों बहनें आपस में काफी खुली हुई थीं और एक दूसरे को दोस्त की तरह ट्रीट करती थीं कविता तो हमेशा सैक्सी मूड में रहने वाली लड़की थी ही और उसकी बातों का टॉपिक हमेशा सैक्स ही रहता था। तीनों बहनें खास सहेलियों की तरह खुल के सैक्स पर बात करती तीनों बहनों का हवेली में एक आलीशान कमरा मिला हुआ था जिस पर तीनों बहनें एक साथ सोती थीं और एक बड़ा बाथरूम अटैचड् था। तीनों बहनें रात को मिल कर इन्टरनेट पर ब्लू फिल्म और दूसी सैक्सी साइट्स डाउनलोड करती और आपस में एक दूसरे की चूंचियाँ मसलती, चूत चाटती और अपनी या एक दूसरे की चूतों को बैंगन/मोमबत्ती इत्यादि से चोदती कभी अगर मौका मिलता तो हवेली में से ही चाचा बलवीर सिंह की शराब/सिगरेट चूरा कर अपने कमरे की प्राइवेसी में मौज करती थीं।

कविता कुत्ते कुतिया की चुदाई देख कर पूरी गरम हो गई थी। उसे तालाश थी तो एक लंड की; वोह चाहे जिस किसी का भी हो। उसके दिमाग में तब एक आईडीया आया और कविता ने कार प्रोफ़ेसर विजय के घर के तरह मोड़ दी। प्रोफ़. विजय की उमर उस समय लगभग ३५ साल की थी और उनकी शादी अभी नही हुड़ थी। वो बहुत ही रंगीन मिज़ाज़ के थे मतलब वो एक बहुत चोदु आदमी थे। उनके लंड की लम्बायी ७” और मोटाड़ ४” की थी और यह बात कॉलेज की लगभग सभी लड़कियों और मैडम को मालुम थी। उनको अपने लंड और अपनी चुदाड़ की कला पर बहुत गर्व था और कॉलेज की कई लड़कियां और मैडम उनसे अपनी चूत चुदवा चुकी थीं विजय इन सब लड़कियों और मैडम को बातों में फंसा कर अपने घर ले जाया करता था और फिर उनको नंगी करके उनकी चूत चोदा करता था और यह बात इन तीन बहनों को मालुम थी।